पुणे: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को यहां कहा कि ‘एक देश, एक संविधान’ की राह में अनुच्छेद 370 की बहुत बड़ी बाधा थी, लेकिन पिछली किसी भी सरकार ने उसे हटाने की हिम्मत नहीं दिखाई. मोदी ने महाराष्ट्र विधानसभा के लिए एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा कि केंद्र में स्थिर सरकार बनाने के लिए लोगों द्वारा दिए गए मजबूत जनादेश के बाद सारी दुनिया में आज नए भारत की गूंज सुनाई दे रही है.

 

मोदी ने साथ ही कहा कि जब तक ‘गरीब और मध्य वर्ग से लूटी गई एक-एक पाई’ उनको वापस नहीं कर दी जाती है, तब तक वह आराम नहीं करेंगे. उन्होंने कहा कि एक देश, एक संविधान की राह में अनुच्छेद 370 की ये बहुत बड़ी रुकावट खड़ी थी. इस रुकावट को दूर करने की बातें तो बहुत हुईं, लेकिन कभी किसी ने हिम्मत दिखाई नहीं. उन्होंने कहा कि क्या पहली बार प्रचंड बहुमत की सरकार बनी है? नहीं. लेकिन उन्होंने यह नहीं किया. उन्होंने कहा कि यह फैसला (अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को खत्म करना) आसान नहीं था, लेकिन 21वीं सदी का भारत बदलावों से डरने वाला नहीं है.

NCP प्रमुख शरद पवार ने प्रधानमंत्री से पूछा- अब क्यों हो रही अनुच्छेद 370 वापस लाने के बारे में बातें

उन्होंने लोगों को और खासतौर से युवाओं को भरोसा दिलाया कि आने वाले वर्ष अवसरों से भरे हैं और कहा कि भारत आज दुनिया के अग्रणी एफडीआई अनकूल देशों में है. उन्होंने कहा कि विश्व भर में जितने भी अग्रणी उद्योगपतियों से मेरी बात होती है, हर कोई भारत आने के लिए आतुर है. बीते पांच वर्षों में भारत में निवेश वृद्धि में पांच गुना की बढ़ोतरी हुई है. (इनपुट एजेंसी)