पुणे: महाराष्ट्र के पुणे में 43 साल के शख्स पर चाकुओं से हमला करने वाला 23 साल का युवक अब पुलिस कस्टडी से फरार हो गया है. ये युवक 43 साल के अधेड़ शख्स का बॉयफ्रेंड था. कुछ दिन पहले दोनों रात में साथ थे. दोनों एक-दूसरे के साथ फिजिकल हुए. इसके बाद सुबह भी युवक अधेड़ के साथ सेक्स करना चाहता था. डिमांड पूरी नहीं होने पर कहा-सुनी हुई और इसके बाद युवक ने अधेड़ पर चाकुओं से हमला कर दिया था. और इसके बाद फरार हो गया था. पुलिस ने उसे बीते दिन अरेस्ट कर लिया गया था. Also Read - Shubh Mangal Zyada Saavdhan Public Review: लोगों को पसंद आई गे केमेस्ट्री, आयुष्मान-जितेंद्र ने गजब ढाया

Also Read - Bollywood news today january 22: Trailer: 'सेक्स एजुकेशन 2' में समलैंगिकता पर होगी गहराई से बात, Emotion का हर Extreme लेवल दिखेगा

सेक्स डिमांड नहीं की पूरी, 23 साल के बॉयफ्रेंड ने 43 साल के शख्स को चाकुओं से गोदा Also Read - बॉलीवुड अभिनेत्री जरीन खान ने कहा- समलैंगिकता पर बनाई जानी चाहिए फिल्में, ताकि...

सुबह किया चाकुओं से हमला

घटना 22 सितंबर, 2018 को पुणे की है. पुलिस के अनुसार, एक की उम्र 23 और दूसरे की उम्र 43 साल है. दोनों गे रिलेशनशिप में थे. एक-दूसरे से मिलते-जुलते थे. बताया जा रहा है कि बुधवार को लड़का अधेड़ के घर पहुंचा. रात में दोनों साथ में रहे. इस बीच दोनों के बीच सेक्स हुआ. इसके बाद सुबह भी लड़के ने अधेड़ से सेक्स के लिए कहा. मना करना पर दोनों के बीच कहा-सुनी हो गई. इसके बाद लड़के ने अधेड़ पर चाकू से हमला कर दिया था. इससे अधेड़ शख्स गंभीर रूप से घायल हो गया था. उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था. घायल अभी भी हॉस्पिटल में है.

शादी के बाद ‘ननद’ की हो गई दुल्हन, पति ने टोका तो बोली- अब तो कानून बन गया है

अब आरोपी हुआ फरार, दोनों के नाम नहीं किए गए सार्वजनिक

पुलिस ने आरोपी को अरेस्ट कर लिया था. वहीँ, आज पुलिस कस्टडी से युवक फरार हो गया. पुणे पुलिस के अनुसार अधेड़ शख्स की तहरीर में आरोपी के खिलाफ धारा 307 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था. पुलिस ने इन दोनों के नाम सार्वजनिक नहीं किए हैं. बता दें कि कुछ दिन पहले ही सुप्रीम कोर्ट ने समलैंगिक संबंधों को कानूनी मान्यता दी है. कोर्ट ने फैसला सुनाया था कि अगर दो समलिंगी लोगों के बीच सहमति से सेक्स होता है तो ये अपराध नहीं माना जाएगा. उस पर धारा 377 लागू नहीं होगा. जबकि पहले इस धारा के तहत सहमति-असहमति दोनों स्थिति में समलैंगिकता कानूनन अपराध थी.