फरीदाबाद: माओवादियों से संबंध रखने के आरोप में नजरबंद मानवाधिकार कार्यकर्ता सुधा भारद्वाज को पुणे पुलिस ने शुक्रवार की देर रात सूरजकुंड स्थित उनके आवास से गिरफ्तार कर लिया. इससे पहले पुणे की एक अदालत ने सुधा की जमानत याचिका खारिज कर दी थी, जिसके बाद पुणे पुलिस की टीम ने उन्हें यहां गिरफ्तार किया. पुणे पुलिस सुधा भारद्वाज को गिरफ्तार कर सूरजकुंड थाने ले गई.Also Read - Aryan Khan ड्रग मामले में लापता गवाह किरण गोसावी लखनऊ में करेगा सरेंडर, कहा- 'मुझे धमकाया जा रहा'

Also Read - Maharashtra Politics: महाराष्ट्र में 'थप्पड़' पर बवाल, नारायण राणे ने कहा-मैंने अपराध नहीं किया, शिवसेना ने पीएम को लिखा खत

सुप्रीम कोर्ट ने 5 कार्यकर्ताओं की रिहाई वाली रोमिला थापर की रिव्‍यू पिटीशन खारिज की  Also Read - शादी के दिन दुल्हन ने किया कुछ ऐसा कि वायरल हो गया VIDEO, पुलिस ने दर्ज की FIR- जानें पूरा मामला...

सूरजकुंड थाने के एसएचओ विशाल कुमार ने बताया कि पुणे पुलिस ने मानवाधिकार कार्यकर्ता सुधा भारद्वाज की गिरफ्तारी के बारे में उन्हें सूचना दे दी थी.

आईआरएस अधिकारी एसके मिश्रा ईडी प्रमुख बने, लेंगे करनाल सिंह की जगह 

सुधा भारद्वाज भीमा-कोरेगांव में हुई हिंसा के मामले में आरोपी हैं. बताया जा रहा है कि गिरफ्तारी से पहले ही सुधा भारद्वाज के घर के बाहर तैनात फरीदाबाद पुलिस के जवानों को हटा लिया गया था.

श्रीलंका: प्रेसिडेंट सिरिसेना ने राजपक्षे को पीएम नियुक्त करने के लिए जारी किए गजट नोटिफिकेशन 

बता दें कि एक जनवरी 2018 को पुणे के पास भीमा-कोरेगांव लड़ाई की 200वीं वर्षगांठ पर एक समारोह आयोजित किया गया था, जहां हिंसा होने से एक व्यक्ति की मौत हो गई थी.

गुजरात में पीएम मोदी, सीएम रूपाणी और ‘स्टेच्यू ऑफ यूनिटी’ के पोस्टरों को फाड़ा और कालिख पोती