पुणे: पुणे की एक श्रम अदालत ने एचआईवी होने की वजह से नौकरी से निकाली गई महिला को वापस नौकरी पर रखने का आदेश दिया गया है. श्रम विभाग ने फार्मास्युटिकल कम्पनी को महिला को इन तीन सालों का वेतन भी देना पड़ेगा. करीब तीन वर्ष पहले एचआईवी संक्रमण होने के बाद कम्पनी ने महिला से जबरन इस्तीफा लिया था. श्रम अदालत की पीठासीन अधिकारी कल्पना फटांगरे ने अक्टूबर में यह आदेश सुनाते हुए फार्मास्युटिकल कम्पनी से महिला की नौकरी बहाल करने और उसका अभी तक का पूरा वेतन देने और अन्य लाभ मुहैया कराने को कहा था.

यूपी की जेलों में बढ़ रहा एचआईवी का प्रकोप, अब मुजफ्फरनगर जेल में पांच कैदी हुए संक्रमित

नौकरी से निकाले जाने के बाद महिला ने अदालत का रुख किया था. अदालत में दी जानकारी के अनुसार महिला के चिकित्सीय लाभ हासिल करने के लिए बीमारी के दस्तावेज कम्पनी में जमा कराने के बाद वर्ष 2015 में उसे इस्तीफा देने के लिए मजबूर किया गया. उन्होंने बताया कि महिला को एचआईवी होने की बात पता चलने के बाद एचआर अधिकारियों ने उस पर इस्तीफा देने के लिए दबाव डाला, जबकि उसने कई बार कहा कि वह काम करने के लिए मानसिक और शारीरिक रूप से तंदुरुस्त है और काम करते समय सभी एहतियात बरत रही है.

World AIDS Day 2018: असुरक्षित यौन संबंध है सबसे बड़ी वजह, HIV होने के बाद कितने समय में होता है एड्स?

महिला ने अदालत से कहा कि वह विधवा है और उसे नौकरी की जरूरत है. उसके आवेदन में कहा गया कि उसे नौकरी, सामाजिक, आर्थिक सहयोग और गैर पक्षपातपूर्ण रवैये की आवश्यकता है, लेकिन महिला के एचआईवी संक्रमित होने के बाद कम्पनी ने उसके साथ भेदभाव किया. महिला के अनुसार उसके पति को वर्ष 2004 में एचआईवी हुआ था जिसके दो वर्ष उनका निधन हो गया. चिकित्सीय जांच के बाद उसे भी एचआईवी होने की बात सामने आई.