नई दिल्‍ली: महाराष्ट्र मुद्दे पर सोमवार को विपक्षी दलों ने संसद के अंदर और बाहर भारी विरोध प्रदर्शन करके सियासी पारा बढ़ा दिया. विपक्षी दलों ने नेताओं ने संसद मेंं प्रश्‍नकाल के दौरान ‘संविधान की हत्‍या बंद करो, बंद करो’ के नारे लगाए.  एक ओर सांसद के बाहर जहां सोनिया गांधी ने विरोध प्रदर्शन किया, वहीं, लोकसभा में राहुल गांधी ने महाराष्‍ट्र में लोकतंत्र की हत्‍या करने का आरोप लगाया है.

राहुल गांधी ने लोकसभा में कहा, ” मैं सदन में एक सवाल पूछना चाहता था, लेकिन इस सवाल का अभी कोई मतलब नहीं है क्योंकि लोकतंत्र की हत्या हो चुकी है.”

महाराष्ट्र में जारी राजनीतिक घटनाक्रमों के बीच कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को आरोप लगाया कि राज्य में ‘लोकतंत्र की हत्या हुई है.’ लोकसभा में राहुल गांधी ने यह टिप्पणी तक की जब स्पीकर ने उनसे प्रश्नकाल के दौरान पूरक प्रश्न पूछने को कहा. सदन में कांग्रेस सदस्यों की नारेबाजी के बीच लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने प्रश्नकाल शुरू कराया और अनुसूचित जाति के लड़के-लड़कियों के छात्रावास विषय पर पूरक प्रश्न पूछने के लिए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी का नाम पुकारा.

 

इस सत्र में पहली बार सदन में पहुंचे गांधी ने सवाल पूछने से इनकार करते हुए कहा, ‘‘महाराष्ट्र में लोकतंत्र की हत्या हुई है, ऐसे में मेरे सवाल पूछने का कोई मतलब नहीं है.’’ इस दौरान सदन में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी भी मौजूद थीं.

इससे पहले संसद के बाहर कांग्रेस की कार्यकारी अध्‍यक्ष सोनिया गांधी अन्‍य सांसदों के साथ बड़े-बड़े बैनर लिए हुई प्रदर्शन करती नजर आईं. इन पोस्‍टर्स में लिखा था, स्‍टॉप मर्डर ऑफ डेमोक्रेसी.”

लोकसभा में महाराष्ट्र मुद्दे पर विरोध के दौरान बड़ा पोस्टर लहरा रहे कांग्रेस सदस्यों हिबी इडेन और टीएन प्रतापन को स्पीकर ने ऐसा नहीं करने की चेतावनी दी, दोनों सांसदों और मार्शलों के बीच धक्का-मुक्की हुई.

महाराष्ट्र में सरकार गठन के मुद्दे पर कांग्रेस सदस्यों के हंगामे के कारण लोकसभा की बैठक दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित. वहीं, इसी मुद्दे पर विपक्षी सदस्यों के हंगामे के कारण राज्यसभा की बैठक सोमवार को शुरू होने के करीब दस मिनट बाद ही दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई.

बता दें कि महाराष्ट्र में अप्रत्याशित राजनीतिक घटनाक्रम में राज्यपाल ने शनिवार की सुबह देवेंद्र फडणवीस को मुख्यमंत्री और अजित पवार को उप मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई. इसके बाद से शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपीपा अपने विधायकों को मुंबई के अलग अलग होटलों में रखे हुए है.बीजेपी की सरकार बनने को लेकर इन तीनों दलों की अपील पर सुप्रीम कोर्ट ने कल मंगलवार सुबह 10 बजे तक लिए फैसला सुरक्ष‍ित रख लिया है.