Mumbai, Maharashtra, Rain, Weather NEWS, महाराष्‍ट्र (Maharashtra) की राजधानी मुंबई (Mumbai) में बीते दिनों से बारिश (rain) का कहर जारी है, जिससे महानगर के कई इलाकों में जलजमाव हो गया है. अंधेरी के सब-वे पानी में डूबे हुए नजर आ रहे हैं. मुंबई के क्षेत्रीय मौसम विज्ञान विभाग केंद्र ने शनिवार को कुछ स्थानों पर तेज से काफी तेज और कोंकण तथा गोवा के दूर दराज के इलाकों में बेहद भारी बारिश होने का पूर्वानुमान व्यक्त किया है. मुंबई और इसके पड़ोसी क्षेत्रों के दूरदराज इलाकों में रविवार को अत्यंत बारिश की अत्यधिक संभावना है. मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने जारी एक (Weather NEWS) रिपोर्ट में यह जानकारी दी.Also Read - Mumbai Police के एसीपी स्तर का अधिकारी करेगा Sameer Wankhede के खिलाफ आरोपों की जांच

बीएमसी अधिकारियों के मुताबिक, आईएमडी ने कल  अनुमान जताया था कि अगले 24 घंटों के लिए शहर और उपनगरों में मध्यम बारिश हो सकती और साथ ही कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश की आशंका है. Also Read - Nawab Malik ने फिर कहा, समीर वानखेड़े के मालदीव दौरे की जांच करें, उगाही का पूरा खेल सामने आ जाएगा

महाराष्ट्र: मुंबई में बारिश का कहर जारी है; विले पार्ले में वेस्टर्न एक्सप्रेस हाईवे की ये तस्‍वीरें सामने आईं हैं. क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र मुंबई ने कहा है कि 48 घंटों के दौरान मुंबई और उपनगरों में ‘मध्यम से भारी’ बारिश होने की संभावना है, ‘कुछ स्थानों पर बहुत भारी वर्षा की संभावना है. Also Read - Maharashtra News: मुंबई के पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह पर बड़ी कार्रवाई, रोकी गई सैलेरी, भगोड़ा घोषित किए जाएंगे

कोंकण और गोवा के दूर दराज के इलाकों में बेहद भारी बारिश का अनुमान
मुंबई के क्षेत्रीय मौसम विज्ञान विभाग केंद्र ने शनिवार को कुछ स्थानों पर तेज से काफी तेज और कोंकण तथा गोवा के दूर दराज के इलाकों में बेहद भारी बारिश होने का पूर्वानुमान व्यक्त किया है.

महाराष्ट्र के 21 जिलों में जून के पहले 10 दिन में काफी बारिश
महाराष्ट्र के 36 में से 21 जिलों में एक से 10जून के बीच 60 प्रतिशत अधिक वर्षा हुई. भारत मौसम विज्ञान विभाग ने शुक्रवार को यह जानकारी दी. एक से 10 जून के बीच इन जिलों में काफी अधिक बारिश हुई, जो इस अवधि के औसत से साठ प्रतिशत अधिक है. मुंबई के अलावा तटीय जिले ठाणे, रायगढ़ और पालगढ़ भारी बारिश वाले जिलों में शामिल हैं. रत्नागिरि ,बुलढ़ाना,नागपुर और भंडारा में ‘अधिक’वर्षा हुई, वहीं आठ जिलों में सामान्य वर्षा हुई.

यहां कम हुई बारिश
मध्य महाराष्ट्र के अकोला और लातूर केवल दो जिले ऐसे हैं, जहां कम वर्षा हुई.

मॉनसून पूर्व वर्षा की तीव्रता अधिक थी
आईएमडी पुणे के वरिष्ठ वैज्ञानिक के एस होसालिकर ने कहा कि इनमें से अधिकतर मॉनसून पूर्व वर्षा थी, लेकिन इनकी तीव्रता अधिक थी और इस दौरान गरज के साथ बौछारें पड़ी और बिजली चमकी.”