मुम्बई: कोरोना वायरस का कहर पूरे देश में जोरों पर है ऐसे में महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के प्रमुख राज ठाकरे ने शुक्रवार को कहा कि वैश्विक महामारी कोविड-19 संकट के मद्देनजर अयोध्या में राम मंदिर के लिए अभी ‘भूमि पूजन’ कार्यक्रम आयोजित करने की आवश्यकता नहीं थी और इसे स्थिति सामान्य होने के बाद आयोजित किया जा सकता था. Also Read - Coronavirus Cases In India: कोरोना से 24 घंटे में 861 लोगों ने गंवाई जान, 64 हजार से अधिक संक्रमित

राम मंदिर के लिए भूमि पूजन का कार्यक्रम पांच अगस्त को आयोजित किया जा रहा है. ठाकरे ने ‘ई- भूमि पूजन’ के महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के सुझाव को भी खारिज कर दिया और कहा कि भूमि पूजन का कार्यक्रम बड़े उत्साह के साथ आयोजित किया जाना चाहिए. Also Read - Sanjay Dutt Health Update: सांस लेने में संजय दत्त को हो रही थी प्रॉब्लम, कोरोना रिपोर्ट में हुआ यह खुलासा

मनसे प्रमुख ने मराठी समाचार चैनल से कहा, ‘‘ इस समय भूमि-पूजन की आवश्यकता नहीं थी क्योंकि अभी लोगों की मानसिक स्थिति बिल्कुल अलग है. स्थिति सामान्य होने पर इसे दो महीने बाद भी किया जा सकता था. तब लोग इस कार्यक्रम का आनंद भी उठा पाते.’’ Also Read - केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल को हुआ कोरोना, दूसरी रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद AIIMS में भर्ती

श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र न्यास ने अयोध्या में भूमि पूजन के लिए प्रधानमंत्री को आमंत्रित किया है. न्यास के सदस्यों के अनुसार, राम मंदिर का निर्माण शुरू करने के वास्ते भूमि पूजन के लिए प्रधानमंत्री के पांच अगस्त को अयोध्या का दौरा करने की उम्मीद है.

आपको बता दें कि गरुवार को खबर सामने आई थी कि राम मंदिर के चार प्रमुख पुजारियों में प्रदीप दास कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए और इसके अलावा मंदिर परिसर की सुरक्षा में तैनात 16 पुलिस कर्मी भी कोरोना वायरस पॉजिटिव पाए गए. इस खबर के सामने आते ही पुजारी प्रदीप दास और 16 पुलिसकर्मियों को क्वारंटीन कर दिया गया था.