मुंबई: महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और उनके पुत्र आदित्य ठाकरे के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करने के आरोप में मुंबई पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए ट्विटर यूजर समीत ठक्कर को 9 नवंबर तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है. Also Read - Covid-19 Vaccine Latest News: PM मोदी 28 नवंबर को पुणे से दे सकते हैं कोरोना वैक्‍सीन को लेकर अच्‍छी खबर

समीत ठक्कर को नागपुर अदालत से जमानत मिलने के बाद मुंबई पुलिस ने गिरफ्तार किया था. मंगलवार को उन्हें स्थानीय अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें मामले की आगे की जांच के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया गया. Also Read - Ideal House Rent Act: केंद्र सरकार जल्द लाएगी आदर्श किराया कानून, जानिए- क्या इससे रुकेगा नई झोपड़पट्टियां बांधने का काम

ट्विटर पर ठक्कर के 59,000 फॉलोअर हैं और कई सरकारी अधिकारी भी सोशल मीडिया पर उन्हें फॉलो करते हैं. नागपुर पुलिस ने ट्विटर पर उनकी टिप्पणियों को लेकर उन्हें 24 अक्टूबर को गिरफ्तार किया था. इन टिप्पणियों में आदित्य ठाकरे के खिलाफ ‘बेबी पेंगुइन’ टिप्पणी भी शामिल थी. Also Read - केरल, महाराष्‍ट्र, दिल्‍ली राजस्‍थान समेत देश के कई राज्‍यों में कोरोना वायरस का प्रचंड प्रकोप, पढ़ेंं डिटेल

नागपुर पुलिस ने ठक्कर की गिरफ्तारी का विरोध करने वाले भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) के कुछ कार्यकर्ताओं के खिलाफ रविवार को मामला दर्ज किया था. इन कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन करते समय ऐसे कपड़े पहन रखे थे जिनपर ‘पेंगुइन’ की तस्वीर थी. जिन प्रदर्शनकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है, उनमें शिवानी दानी वाखरे भी शामिल हैं जिनके ट्विटर एकाउंट पर लिखा है कि वह भाजयुमो महासचिव हैं.

ठक्कर की गिरफ्तारी के समय पुलिस ने उन्हें भाजपा का पदाधिकारी बताया था. हालांकि, भाजपा ने इस बात से इनकार किया है कि ठक्कर उसके पदाधिकारी या उसकी आईटी इकाई के सदस्य हैं.