मुंबई: महाराष्ट्र में सरकार गठन के लिए जरूरी आंकड़े जुटाने में शिवसेना के असफल रहने के बाद पार्टी के नेता संजय राउत ने सुप्रसिद्ध कवि एवं साहित्यकार हरिवंश राय बच्चन की कविता की कुछ पंक्तियों को उद्धृत कर बताया कि पार्टी सफलता के लिए दृढ़ संकल्पित है और हार नहीं मानेगी.

सोमवार को राउत की मुंबई के एक अस्पताल में एंजियोप्लास्टी हुई है. उन्होंने बच्चन की प्रसिद्ध कविता की पक्तियां ट्वीट की, ”लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती, हिम्मत करने वालों की कभी हार नही होती.” उन्होंने आगे लिखा, ‘‘हम होंगे कामयाब…जरूर होंगे…”

कांग्रेस के साथ NCP की मीटिंग पर शरद पवार का जवाब- किसने कहा? मुझे नहीं पता

बता दें राउत को सोमवार को सीने में दर्द की शिकायत के बाद लीलावती अस्पताल ले जाया गया था, जहां उनकी एंजियोप्लास्टी हुई है.

शिवसेना ने सोमवार को दावा किया था कि महाराष्ट्र में भाजपा के बिना उसकी सरकार का समर्थन करने के लिए एनसीपी और कांग्रेस ‘सैद्धांतिक समर्थन’ देने पर सहमत हो गईं हैं, लेकिन वह राज्यपाल द्वारा तय समयसीमा के पहले इन दलों से समर्थन पत्र नहीं ले सकी. राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने तीन दिन की और मोहलत देने के शिवसेना के अनुरोध को ठुकरा दिया.

कांग्रेस नेता का दावा: महाराष्‍ट्र में तीन दलों की होगी सरकार, शिवसेना का नेता सीएम होगा

कांग्रेस वैचारिक रूप से अपनी प्रतिद्वंद्वी शिवसेना के साथ समझौते का कोई फैसला जल्दबाजी में लेती प्रतीत नहीं हुई और उसने शिवसेना को समर्थन देने के मुद्दे पर चुनाव पूर्व की अपनी सहयोगी राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के साथ आगे और बातचीत करने का फैसला किया. जिससे शिवसेना के महाराष्ट्र में गैर बीजेपी सरकार बनाने के उसके प्रयासों को झटका लगा. बाद में महाराष्ट्र के राज्यपाल ने सोमवार रात को एनसीपी को राजभवन में आमंत्रित किया. एनसीपी राज्य में तीसरा सबसे बड़ा दल है.

महाराष्‍ट्र में सरकारः मंझधार में फंसी शिवसेना को कांग्रेस के सहयोग की दरकार, आज फैसला संभव

शरद पवार की अगुवाई वाली एनसीपी के 288 सदस्यीय विधानसभा में 54 विधायक हैं, जो भाजपा (105) और शिवसेना (56) के बाद तीसरा सबसे बड़ा दल है.