मुंबई: महाराष्ट्र के कार्यवाहक मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस पर निशाना साधते हुए शिवसेना सांसद संजय राउत ने रविवार को एक हिंदी कविता का सहारा लेकर भाजपा नेता पर निशाना साधा और उन्हें राजनीति के बड़े खेल में नौसिखिया बताया. मुख्यमंत्री पद साझा करने के मुद्दे पर भाजपा और शिवसेना के बीच जबरदस्त टकराव चल रहा है जिससे राज्य में सरकार गठन को लेकर गतिरोध पैदा हो गया है. 49 वर्षीय फडणवीस पर निशाना साधते हुए राउत ने ट्वीट किया, ‘जो खानदानी रईस हैं वो मिजाज रखते हैं नरम अपना, तुम्हारा लहजा बता रहा है, तुम्हारी दौलत नई नई है.’

भाजपा को महाराष्ट्र में सरकार बनाने का प्रस्ताव स्वीकार करना चाहिए: शिवसेना

राज्यसभा सदस्य राउत ने पिछले सप्ताह भाजपा पर निशाना साधने के लिए अपने ट्विटर हैंडल पर एक हिंदी कविता पोस्ट की थी. फडणवीस ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया और हालिया विधानसभा चुनाव के बाद सरकार गठन में गतिरोध को लेकर सहयोगी शिवसेना को जिम्मेदार ठहराया था. इस्तीफा देने के बाद फडणवीस ने कहा कि भाजपा के लिए यह हैरान करने वाला है कि शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने नतीजे आने के तुरंत बाद ही यह घोषणा कर दी कि ‘सरकार बनाने के लिए शिवसेना के लिए सारे विकल्प खुले हैं.’

संजय राउत ने दिया बयान, बोले- यदि कोई सरकर गठित नहीं करता तो रणनीति की घोषणा करेंगे

फडणवीस ने 1990 के दशक में अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत की थी. वह वर्ष 1999 से नागपुर-दक्षिण पश्चिम विधानसभा का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं और सबसे युवा महापौर भी रहे हैं. शिवसेना ने दलील दी कि दोनों पार्टियों ने लोकसभा चुनाव से पहले यह फैसला किया था कि मुख्यमंत्री पद ढाई-ढाई साल के लिए साझा होगी. फडणवीस ने कहा कि उनकी मौजूदगी में ऐसा कोई निर्णय नहीं लिया गया.

कांग्रेस महाराष्ट्र की दुश्मन नहीं है, शिवसेना सरकार बनाने की जिम्मेदारी लेती हैः संजय राउत

बाद में ठाकरे ने फडणवीस के दावे का मजबूती से विरोध किया और कहा कि जब तक भाजपा यह स्वीकार नहीं करती कि मुख्यमंत्री पद दोनों सहयोगी पार्टियों में साझा होगा तब तक उसके साथ कोई बातचीत नहीं होगी. ठाकरे ने कहा कि उन्होंने अपने पिता दिवंगत बाल ठाकरे से राज्य में शिवसेना का मुख्यमंत्री बनाने का वादा किया था जिसे वह पूरा करेंगे. राज्य में 21 अक्टूबर को हुए विधानसभा चुनावों में भाजपा ने 105 सीटें, शिवसेना ने 56, राकांपा ने 54 और कांग्रेस ने 44 सीटें जीती हैं.

(इनपुट-भाषा)