आए दिन शिवसेना और भाजपा के बीच बयानबाजी अब कोई नई बात नहीं है. अब शिवसेना के सांसद संजय राउत ने मंगलवार को कहा कि मुंबई में शिवसेना भवन भविष्य के ‘राजनीतिक भूकंप’ का केंद्र बनकर उभरेगा. उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र के लोग चाहते हैं शिवसेना अध्यक्ष और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे राज्य के साथ ही राष्ट्रीय राजनीति का भी हिस्सा बनें. राउत ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम पिछले कुछ दिनों से सुन रहे हैं कि उनकी पार्टी (भाजपा) एकजुट है और उनके कोई भी नेता बगावत नहीं करेंगे. कुछ दिन इंतजार कीजिए आपको पता चल जाएगा कि कौन पार्टी छोड़ रहा है. कार्यकर्ता (शिवसेना में) आएंगे. लेकिन एक चीज ध्यान में रखिए कि शिवसेना भवन भविष्य के राजनीतिक भूकंप का केंद्र बनने जा रहा है.’’ Also Read - क्या खतरें में है Dhananjay Munde की कुर्सी? Sharad Pawar ने रेप के आरोपों को बताया गंभीर, बोले- फैसला जल्द

मध्य मुंबई के दादर में भाजपा के कुछ कार्यकर्ताओं के शिवसेना में शामिल होने के बाद राउत का यह बयान आया है. भाजपा के वरिष्ठ नेता देवेंद्र फडणवीस ने सोमवार को कथित तौर पर संकेत दिया था कि आगामी दिनों में दूसरे दलों के कार्यकर्ता भाजपा में शामिल होंगे. राउत ने कहा कि महाराष्ट्र विकास आघाड़ी (एमवीए) के घटक शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस एकजुट हैं और सामंजस्य के साथ काम कर रहे हैं. शिवसेना के मुख्य प्रवक्ता ने कहा, ‘‘राज्य के लोगों को लगता है कि एमवीए सरकार अगले चार-पांच साल नहीं बल्कि अगले 20 से 25 साल तक काम करेगी. उनका (लोगों) मानना है कि ठाकरे को राज्य के साथ ही देश की राजनीति में भी उतरना चाहिए …और यह होगा. ’’ Also Read - Maharashtra News: पुलिस ने फर्जी कॉल सेंटर का किया भंडाफोड़, लोन बकाया भुगतान के नाम पर...

भाजपा पर कटाक्ष करते हुए राउत ने कहा कि रात्रिकालीन कर्फ्यू लगाने के राज्य सरकार के फैसले की आलोचना के लिए विपक्षी दल को ‘‘भारत रत्न’’ मिलना चाहिए. राउत ने कहा कि लोगों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए रात्रि कर्फ्यू लगाने का फैसला किया गया. उन्होंने भाजपा से दुनिया के घटनाक्रम से अवगत होने को भी कहा. राउत ने कहा, ‘‘शायद भाजपा को पता नहीं है कि दुनिया में क्या चल रहा है क्योंकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पिछले कई महीने से विदेश नहीं गए हैं. उन्हें जानकारी जुटानी चाहिए.’’ Also Read - NCB ने ड्रग्स मामले में 'Muchhad Paanwala' को किया गिरफ्तार, जानें भारत के 'सबसे अमीर' पानवाले की पूरी कहानी