केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले (Ramdas Athawale) ने दावा किया कि शिवसेना (Shiv Sena) सांसद संजय राउत (Sanjay Raut) की हालिया एक टिप्पणी के कारण संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (UPA) नेतृत्व महाराष्ट्र सरकार को अस्थिर कर सकता है. आठवले ने दावा किया कि राउत के बयान से कांग्रेस नाराज हो गई थी. कांग्रेस राज्य में शिवसेना नीत गठबंधन सरकार का हिस्सा है. Also Read - ड्रग्स मामले में NCB की बड़ी कार्रवाई, मंत्री नवाब मलिक के दामाद को भेजा समन

मालूम हो कि पिछले हफ्ते संजय राउत ने कहा था कि BJP विरोधी सभी पार्टियों को UPA में शामिल होना चाहिए. उन्होंने यह भी कहा था कि NCP प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) यूपीए की अगुवाई करने के लिए सक्षम हैं. फिलहाल यूपीए की नेता कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी हैं. Also Read - देवेंद्र फडणवीस, रामदास अठावले सहित कई नेताओं की घटी सुरक्षा, रश्मि ठाकरे के रिश्तेदार को मिली सिक्योरिटी

NDA के सहयोगी आठवले ने कहा, ‘राउत ने कहा कि शरद पवार को यूपीए की अगुवाई करनी चाहिए, जिससे कांग्रेस के नेतागण नाराज हो गए. नतीजतन कांग्रेस अपना समर्थन वापस ले सकती है और महा विकास अघाडी की सरकार गिर सकती है.’ आरपीआई (ए) नेता ने कहा, ‘हमारी इस सरकार को गिराने की कोई योजना नहीं है, लेकिन अगर सरकार गिरती है तो राजग निश्चित तौर पर राज्य में सरकार बनाएगी.’ Also Read - पीएमसी बैंक धन शोधन मामला: ईडी ने संजय राउत की पत्नी को फिर तलब किया

राउत की पत्नी को कथित धनशोधन के मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ED) के समन पर केंद्रीय मंत्री ने कहा, ‘ईडी एक सरकारी संगठन है, लेकिन स्वतंत्र है. सरकार का इरादा ED के जरिए किसी को परेशान करने का नहीं है.’ उन्होंने दावा किया कि तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के प्रदर्शन को पूरे देश का समर्थन हासिल नहीं है.

अठावले ने कहा, ‘किसी कानून में संशोधन का प्रावधान है और यह किसानों से बातचीत के बाद किया जा सकता है. शरद पवार कई सालों तक सरकार में रहे हैं. उन्हें विपक्षी पार्टियों के नेताओं से बातचीत करनी चाहिए और जो संशोधन वे चाहते हैं, उनके बारे में सरकार को बताना चाहिए. सरकार उनकी बातों का स्वागत करेगी.’

(इनपुट: भाषा)