मुंबई: एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने महाराष्ट्र में मध्य प्रदेश जैसी राजनीतिक स्थिति होने से बुधवार को इनकार किया और कहा कि उद्धव ठाकरे नीत शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस गठबंधन सरकार राज्य में बहुत अच्छा काम कर रही है. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार ने बुधवार को राज्यसभा चुनाव के लिए नामांकन भरा. राज्यसभा चुनाव 26 मार्च को होना है. Also Read - दिग्विजय सिंह अमर्यादित भाषा वाले आ रहे कॉल्‍स से हुए परेशान, बंद किया मोबाइल फोन

पवार ने दक्षिण मुंबई में विधान भवन में मीडियाकर्मियों से बातचीत करते हुए कहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया ने लोकसभा चुनाव हारने के बाद जल्द पुनर्वास चाहा था. सिंधिया कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए हैं. Also Read - महाराष्‍ट्र में COVID19 के 72 नए केस के साथ संक्रमितों का आंकड़ा 302

यह पूछे जाने पर कमलनाथ सरकार के आसन्न गिरने के लिए क्या कांग्रेस जिम्मेदार है, पवार ने कहा कि पार्टी का एक अच्छा और सक्षम नेतृत्व है. सिंधिया के कांग्रेस छोड़ने का मध्य प्रदेश में 15 महीने पुरानी कमलनाथ सरकार पर प्रभाव के बारे में पवार ने कहा, कुछ लोगों को कमलनाथ की क्षमता पर विश्वास है और उन्हें लगता है कि चमत्कार हो सकता है. Also Read - 26/11 आतंकी हमले पर आधारित State Of Siege की खूब हो रही तारीफ, 9.7 की मिली रेटिंग

पूर्व केन्द्रीय मंत्री ने यहां विधान भवन परिसर में नामांकन दाखिल किया. राज्य के राकांपा नेताओं के साथ वह यहां पहुंचे थे. एनसीपी नेता और पूर्व मंत्री फौजिया खान भी पवार के साथ नजर आईं. वह खुद भी गुरुवार को नामांकन दाखिल कर सकती हैं. नामांकन दाखिल करने की आखिरी तारीख 13 मार्च है.

पवार के अलावा केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले, कांग्रेस के हुसैन दलवई, शिवसेना के राजकुमार धूत, भाजपा के अमर सबले, भाजपा समर्थित निर्दलीय नेता संजय काकड़े और राकांपा के मजीद मेमन का भी राज्यसभा का कार्यकाल दो अप्रैल को खत्म हो रहा है. सत्तारूढ़ शिवसेना, कांग्रेस और राकांपा आसानी से चुनाव जीत सकती हैं, क्योंकि एक उम्मीदवार को जीत के लिए सिर्फ 37 वोट चाहिए. सत्तारूढ़ पार्टियों के नेता रणनीति तय करने के लिए बुधवार शाम बैठक करेंगे.