मुंबई: शिवसेना ने अटकलों को विराम देते हुए रविवार को कहा कि उसने पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे के बड़े बेटे आदित्य ठाकरे को मुंबई के वर्ली विधानसभा क्षेत्र से चुनाव मैदान में उतारने का फैसला किया है. इसके साथ ही आदित्य, ठाकरे परिवार के पहले ऐसे सदस्य बन गए हैं जो चुनाव लड़ेंगे. Also Read - कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन करने के लिए मुंबई को निकले महाराष्ट्र के हजारों किसान, आजाद मैदान में करेंगे रैली

Also Read - मुंबई में ACP की पोस्‍ट पर रहते हुए महिला ASI से रेप करने के आरोप में Deputy SP पर केस दर्ज

  Also Read - मुंबई में NCB की बड़ी कार्रवाई, दाऊद से जुड़े ड्रग्स फैक्ट्री का भंडाफोड़, 12 किलोग्राम से ज्यादा मादक पदार्थ किया बरामद

शिवसेना प्रमुख के एक करीबी सहयोगी ने बताया कि वर्ली विधानसभा क्षेत्र के लिए आदित्य ठाकरे का नाम तय हो गया है. वर्तमान में सुनील शिंदे इस सीट से शिवसेना के विधायक हैं वह इस बार इस सीट से चुनाव नहीं लड़ेंगे. उनकी जगह आदित्य चुनाव लड़ेंगे. उन्होंने कहा कि वर्ली शिवसेना के लिए सबसे सुरक्षित सीट मानी जाती है, इसलिए आदित्य को वहां से उतारा जा रहा है. बता दें कि शिवसेना ने रविवार को कुछ विधानसभा सीटों के लिए अपने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया. बता दें कि महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव के लिए 21 अक्टूबर को मतदान होगा.

शिवसेना ने कुछ सीटों पर किया उम्मीदवारों के नाम का ऐलान

शिवसेना और भाजपा के बीच सीट बंटवारे को लेकर बातचीत चल रही है. इस बीच उद्धव ठाकरे नीत पार्टी के सूत्रों ने बताया कि रविवार को जिन सीटों पर उम्मीदवारों के नाम का ऐलान किया गया उनपर कोई टकराव नहीं है. शिवसेना के सूत्रों ने बताया कि महाराष्ट्र के गृह राज्य मंत्री दीपक केसरकार कोंकण के सिंधुदुर्ग की सावंतवाडी सीट से चुनाव लड़ेंगे जबकि राजेश क्षीरसागर कोल्हापुर शहर से चुनाव लड़ेंगे.

महाराष्ट्र चुनाव: कांग्रेस ने 51 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की, देखें कहां से किसको मिला टिकट

बराबर-बराबर सीटों पर चुनाव लड़ेंगे भाजपा और शिवसेना

माना जाता है कि 288 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा और शिवसेना बराबर-बराबर सीटों पर चुनाव लड़ेंगे और कुछ सीटें छोटे सहयोगी दलों के लिए छोड़ेंगे. हालांकि सीट बंटवारे को लेकर अबतक कोई समझौता नहीं हुआ है. दोनों पार्टियों के सूत्रों ने बताया कि भाजपा हाल के लोकसभा चुनाव में शानदार प्रदर्शन के आधार पर ज्यादा सीटें चाहती है लेकिन शिवसेना इसके लिए तैयार नहीं है.