मुंबई: निर्वाचन आयोग द्वारा महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों के लिये तारीखों की घोषणा करने के कुछ ही घंटों बाद शिवसेना और भाजपा के नेताओं ने शनिवार को राज्य में लगातार दूसरी बार चुनाव जीतने का भरोसा जताया. मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा ने आज घोषणा की है कि महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव एक चरण में 21 अक्टूबर को होंगे. मतगणना 24 अक्टूबर को होगी.

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने कहा कि मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस की ‘महाजनादेश यात्रा’ को मिली शानदार प्रतिक्रिया को देखते हुए भाजपा गठबंधन को 220 से ज्यादा सीटें मिलने की उम्मीद है. शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने यहां संवाददाताओं को बताया कि दिवाली से एक दिन पहले ‘युति’ (गठबंधन) पटाखे छोड़ेगा. हमारी तैयारी पूरी है. भाजपा के वरिष्ठ नेता विनोद तावड़े ने कहा कि मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस के नेतृत्व में भाजपा के नेतृत्व वाला गठबंधन एक बार फिर विजेता बनकर उभरेगा. स्कूली शिक्षा मंत्री ने कहा कि हम अगले एक महीने में यह सुनिश्चित करेंगे कि कांग्रेस और राकांपा गठबंधन के 15 सालों के पूर्ववर्ती शासन के मुकाबले हमारे पिछले पांच सालों के काम का रिपोर्ट कार्ड लोगों तक पहुंचे.

इसबीच मुख्य चुनाव आयुक्त द्वारा सतारा लोकसभा सीट पर उपचुनावों की घोषणा नहीं किये जाने के बारे में पूछने पर चंद्रकांत ने कहा कि पिछले हफ्ते राकांपा छोड़कर भाजपा का दामन थामने वाले उदयनराजे भोसले इस सीट का प्रतिनिधित्व कर रहे थे और वह भाजपा-शिवसेना उम्मीदवार की जीत सुनिश्चित करने के लिये काम करेंगे. भोसले कथित तौर पर चाहते थे कि उपचुनाव की घोषणा राज्य में विधानसभा चुनावों की घोषणा के साथ ही हो. उन्होंने कहा कि यह सच है कि लोकसभा उपचुनाव की घोषणा विधानसभा चुनावों के साथ नहीं की गई है. लेकिन छत्रपति शिवाजी महाराज के 13वें वंशज उदयनराजे अब भाजपा कार्यकर्ता हैं और वह भाजपा-शिवसेना उम्मीदवार की जीत सुनिश्चित करेंगे.

यह पूछे जाने पर कि क्या शिवसेना और भाजपा के बीच सीटों के बंटवारे की घोषणा रविवार को केंद्रीय मंत्री और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह द्वारा यहां के दौरे के दौरान की जाएगी, पाटिल ने कहा कि मुझे इस बारे में जानकारी नहीं है. उन्होंने कहा कि भाजपा फड़णवीस के नेतृत्व में चुनाव लड़ेगी और ठाकरे तथा फड़णवीस के बीच गठबंधन को लेकर बातचीत जारी है तथा इस संबंध में घोषणा जल्द ही होगी.

सीटों के बंटवारे के फॉर्मूले को लेकर तरह-तरह की अटकलें लग रही हैं. शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार को कहा कि “फॉर्मूला” लोकसभा चुनाव के दौरान तय हुआ था, जहां दोनों दलों के बीच चुनावपूर्व गठबंधन था. भाजपा ने 2014 के विधानसभा चुनाव में 288 सीटों में से सबसे ज्यादा 122 पर जीत हासिल की थी. शिवसेना के खाते में 63 सीटें गई थीं. यह चुनाव दोनों दलों ने अलग-अलग लड़ा था.