नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश की बीजेपी सरकार द्वारा इलाहाबाद और फैजाबाद का नाम बदलने के बाद कई शहरों के नाम बदलने की मांग जोर पकड़ने लगी है. बीजेपी की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने औरंगाबाद और उस्मानाबाद का नाम बदलने की मांग की है. शिवसेना के नेता संदय राउत ने ट्वीट किया, योगी आदित्यनाथ ने फैजाबाद का नाम बदलकर अयोध्या कर दिया. इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज कर दिया गया. मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस औरंगाबाद का नाम बदलकर संभाजीनगर और उस्मानाबाद का नाम बदलकर धाराशिव कब कर रहे हैं.

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज कर दिया था वहीं फैजाबाद का नाम बदलकर अयोध्या करने का एलान कर चुके हैं. दूसरी ओर गुजरात सरकार अहमदाबाद का नाम कर्णावती करने पर विचार कर रही है. गुरुवार को गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने कहा कि हम अहमदाबाद का नाम बदलकर कर्णवती करने पर विचार कर रहे हैं. लंबे समय से इसकी मांग हो रही है. कानूनी और अन्य सभी कोणों से इसे देखने के बाद ठोस कदम उठाए जाएंगे. आने वाले समय में हम इसके बारे में सोचेंगे.

इससे पहले उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने कहा था कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार अहमदाबाद का नाम बदलने के लिए तैयार है अगर वह कानूनी बाधाओं को पार कर लेती है और आवश्यक समर्थन हासिल कर लेती है. पटेल ने मीडिया से बातचीत में कहा था कि लोगों में अब भी ऐसी भावना है कि अहमदाबाद का नाम कर्णावती किया जाना चाहिए. कानूनी बाधाओं को पार करने में अगर हमें आवश्यक समर्थन मिलता है तो हम महानगर का नाम बदलने के लिए हमेशा तैयार हैं.

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में शहरों के नाम बदलने के बाद बीजेपी शासित अन्य राज्यों में नाम बदलने की होड़ मच गई है. पिछले दिनों हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला का नाम बदलने की भी चर्चा हुई थी. शिमला का नाम बदले जाने को लेकर हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने संकेत दिए थे. ठाकुर शिमला का नाम बदलकर श्यामला करना चाहते हैं. सीएम जयराम ठाकुर ने अपने भाषण में कहा था कि ब्रिटिश राज से पहले शिमला को श्यामला के नाम से जाना जाता था. उन्होंने कहा कि हमारी सरकार शिमला का नाम बदलने के संबंध में जनता से राय लेगी.