नई दिल्ली: भाजपा की सहयोगी रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (ए) के प्रमुख रामदास अठावले ने बुधवार को कहा कि शिवसेना के पास महाराष्ट्र में देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्त्व में भाजपा के साथ सरकार बनाने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है. उनका यह बयान ऐसे समय में आया है जब कुछ ही समय पहले राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) प्रमुख शरद पवार ने कहा कि राकांपा एक ‘जिम्मेदार विपक्ष’ की भूमिका निभाएगी.

गौरतलब है कि राज्य विधानसभा चुनाव के परिणाम आने के बाद से भारतीय जनता पार्टी और शिवसेना के बीच सरकार गठन को लेकर खींचातानी चल रही है. शिवसेना मुख्यमंत्री पद को लेकर 50-50 का फॉर्मूला अपनाने की मांग कर रही है, जबकि भाजपा लगातार इससे इनकार कर रही है. शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राउत के साथ मुलाकात के बाद सुबह शरद पवार ने यह बयान दिया कि भाजपा और शिवसेना को सरकार बनाना चाहिए और उनकी पार्टी एक ‘जिम्मेदार विपक्ष’ की भूमिका निभाएगी.

अठावले ने कहा, ‘शिवसेना के पास अब देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्त्व में भाजपा के साथ सरकार बनाने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है.’ उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र की जनता ने भाजपा और शिवसेना को गठबंधन में सरकार बनाने के लिए जनादेश दिया है.

उन्होंने इस पर आश्चर्य जताया कि शिवसेना 56 विधायकों के साथ कैसे सरकार बना सकती है. अठावले ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘अगर शिवसेना हमारे साथ नहीं आना चाहती तो, फडणवीस को आगे बढ़ना चाहिए और सरकार बनाने का दावा पेश करना चाहिए.’ हाल में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा ने 105 सीटें जीतीं है, जबकि शिवसेना को 56 सीटों पर जीत हासिल हुई है.

(इनपुट-भाषा)