मुंबई: संसद में बीते दिनों मॉनसून सत्र के दौरान सदन में बॉलीवुड, ड्रग्स और सुशांत सिंह राजपूत का मामला गूंजा. इस दौरान रवि किशन ने बॉलीवुड इंडस्ट्री को गटर कह दिया था. रविकिशन ने बॉलीवुड में ड्रग्स और सुशांत सिंह राजपूत का मामला भी उठाया. इसपर प्रतिक्रिया देते हुए राज्यसभा सांसद जया बच्चन ने इशारों-इशारों में रवि किशन और कंगना रनौत पर निशाना साधा और बॉलीवुड इंडस्ट्री का बचाव करती दिखीं. इस दौरान जया बच्चन ने यहां तक कह दिया कि कुछ लोग जिस थाली में खाते हैं उसी में छेद करते हैं. इस बयान पर शिवसेना काफी खुश नजर आ रही है.Also Read - शिवसेना ने कहा- महाराष्ट्र में बीजेपी का अंत निकट, जानें इतना क्यों गुस्साई है उद्धव की पार्टी

अपने मुखपत्र सामना में शिवसेना ने जया बच्चन की तारीफ करते हुए लिखा- वह अपनी बेबाकी और सच बोलने के लिए जानी जाती हैं, जिन लोगों को इंडस्ट्री में नेम-फेम-पैस मिला आज वो लोग इसे गटर की संज्ञा दे रहे हैं. इससे मैं सहमत नहीं हूं. आगे लिखा गया कि सिनेमाजगत गंगाजल की तरह पवित्र है यह कोई नहीं कहेगा, लेकिन सिनेमाजगत गटर है यह भी कोई नहीं कहेगा. कुछ लोग जिस थाली में खाते हैं उसी में छेद करते हैं. ऐसे में जया बच्चन द्वारा उन लोगों को करारा जवाब दिया गया है. वह अपनीं बेबाकी के लिए मशहूर हैं. Also Read - दोनों सदनों में गतिरोध जारी, कांग्रेस बोली- सरकार पेगासस पर जवाब दे, संसद अगले मिनट चलेगी

सामना में आगे लिखा गया- जया बच्चन सामाजिक और राजनीतिक मुद्दों पर हमेशा खुलकर बोलती हैं. वह अपने विचारों को कभी छिपाती नहीं. ऐसे में फिल्म इंडस्ट्री की बदनामी हुई तो काई लोग जुबान बंद करके बैठे हैं. ऐसा लगता है मानों आतंकवाद के साए में जी रहे हों. लेकिन ऐसे माहौल में जया बच्चन ने फिर अपनी प्रतिक्रिया दी और खुलकर उन्होंने अपनी बात कही. Also Read - Porn Film Racket Case: राज कुंद्रा की बढ़ी मुश्‍किल, 4 कर्मचारी गवाह बने, एक्‍ट्रेस गहना वशिष्‍ठ पूछताछ के लिए तलब

शिवसेना ने लिखा फिल्मों का काम फिलहाल बंद चल रहा है. ऐसे में लोगों का ध्यान अहम मुद्दों से भटकाने का प्रयास किया जा रहा है, और बॉलीवुड को बदनाम किया जा रहा है. सिनेमाजगत का मतलब कुछ बॉलीवुड अभिनेता या अभिनेत्रियां नहीं हैं. कुछ लोग बॉलीवुड के प्रति घृणास्पद बयान दे रहे हैं, मानों फिल्म जगत में तकनीशीयन से लेकर कलाकार तक सब ड्रग्स का सेवन करते हों और 24 घंटे वे चिलम गांजां पीते हुए दिन बिताते हों.