औरंगाबाद (महाराष्ट्र): शिवसेना सांसद चन्द्रकांत खैरे ने दावा किया है कि वह लोगों की नाड़ी देखकर, मंत्रों और विभूति के जरिए उनकी बीमारी का इलाज कर सकते हैं. औरंगाबाद से लोकसभा सदस्य खैरे ने शनिवार को राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के एक कार्यक्रम के दौरान तमाम डॉक्टरों की उपस्थिति में यह दावा किया. कार्यक्रम का आयोजन स्थानीय सरकारी मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में किया गया था.

सांसद ने दावा किया कि उन्होंने अनेक लोगों को मंत्रों और विभूति के जरिए स्वस्थ किया है. वह विभूति खाने के लिए या फिर उसकी पुड़िया तकिए के नीचे रखने के लिए देते हैं. खैरे ने कहा कि उन्होंने भाजपा के वरिष्ठ नेता प्रमोद महाजन को गोली लगने के बाद उनके बेटे राहुल महाजन को भी विभूति दिया था, लेकिन अस्पताल में महाजन के कमरे के बाहर अत्यधिक सुरक्षा होने के कारण कोई भी अंदर नहीं जा सका. उन्होंने इसे अपनी एकमात्र विफलता बताया.

किसानों के खाते में पहुंचे 2 हजार रुपए, पीएम बोले- लोगों को छोटी चीज़ों के लिए भी तरसाती थीं सरकारें

महाजन को उनके भाई ने कथित रूप से 22 अप्रैल, 2006 को गोली मार दी थी. मुंबई के एक अस्पताल में तीन मई को उनकी मृत्यु हो गई थी. एक अन्य घटना का जिक्र करते हुए खैरे ने कहा, ‘‘एक पार्टी कार्यकर्ता की पत्नी दुर्घटना में घायल हो गई थी. मैंने उसकी धड़कन महसूस की और मंत्रोच्चारण किया, उसने अपनी आंखें खोल दीं. कुछ ही दिन में वह स्वस्थ हो गई.’

सांसदों के संबंध में भारत सरकार के पोर्टल पर मौजूद जानकारी के अनुसार खैरे औरंगाबाद के मराठवाड़ा विश्वविद्यालय से विज्ञान के स्नातक हैं और उनके पास कार्मिक प्रबंधन का डिप्लोमा भी है. कॉलेज में शनिवार को आयोजित कार्यक्रम में विधायक संजय शिरसत, मेयर नंदकुमार घोडेले, कॉलेज के डीन डॉक्टर कनन येलिकर, सिविल सर्जन डॉक्टर सुरेन्द्र कुलकर्णी, स्वास्थ्य विभाग के उपप्रबंधक डॉक्टर स्वप्निल लाले और जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉक्टर अमोल गीते भी उपस्थित थे.