नई दिल्‍ली: बॉलीवुड एक्‍टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत को लेकर मचे विवाद के बीच महाराष्‍ट्र के पूर्व मुख्‍यमंत्री व बीजेपी नेता नारायण राणे ने एक बड़ा दिया है. उन्‍होंने कहा है, सुशांत सिंह राजपूत ने आत्‍महत्‍या नहीं की थी. उसकी हत्‍या हुई है. महाराष्‍ट्र सरकार किसी को बचाने की कोशिश कर रही है. Also Read - NDA से अलग हुआ SAD तो अमरिंदर सिंह ने ली चुटकी- फैसले को बादल परिवार के लिए 'राजनीतिक मजबूरी' बताया

राज्‍य के पूर्व सीएम व बीजेपी नेता नारायण राणे ने यह बयान तब दिया है, जब मुंबई पुलिस और बिहार पुलिस के बीच जांच के दायरे और क्षेत्राधिकार को लेकर मतभेद सामने आ गए हैं. बीजेपी नेता राणे ने कहा, सुशांत सिंह राजपूत ने सुसाइड नहीं की थी. उसकी हत्‍या की गई थी. महाराष्‍ट्र सरकार किसी को बचाने की कोशिश कर रही है.  वह इस केस की ओर ध्‍यान नहीं दे रही है. Also Read - BJP की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष उमा भारती कोरोना वायरस से संक्रमित, खुद को क्वारंटाइन कर लोगों से की यह अपील...

सुशांत की मौत के मामले में अब तक कोई प्राथमिकी क्यों नहीं दर्ज की गई
महाराष्ट्र से भाजपा सांसद नारायण राणे ने सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में पुलिस द्वारा प्राथमिकी दर्ज करने में ”50 दिन से अधिक का विलंब” किए जाने पर मंगलवार को सवाल उठाया. उन्होंने दिवंगत अभिनेता की पूर्व मैनेजर दिशा सालियान की मौत की भी जांच कराने की मांग की.

सालियान की मौत 8 जून को हुई थी, लेकिन पीएम 11 जून को करवाया गया
पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि सालियान की मौत आठ जून को हुई थी, लेकिन उनका पोस्टमार्टम 11 जून को करवाया गया, जो हैरान करने वाला है. राज्यसभा सदस्य ने कहा, ”यहां तक कि सुशांत की मौत के 50 दिन से अधिक समय बाद भी, इस मामले में कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं की गई है.”

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मामले की सीबीआई से जांच की अनुशंसा भेेेजी  
इस बीच बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज मंगलवार को कहा, स्‍व. सुशांत सिंह राजपूत के पिता श्री केके सिंह द्वारा पटना में स्‍व. सुशांत सिंह राजपूत की मौत से संबंधित दर्ज कराए गए मामले की सीबीआई से जांच कराने हेतु राज्‍य सरकार ने अनुशंसा भेज दी है.

बिहार सरकार सुशांत की मौत के मामले की cbi जांच की सिफारिश नहीं कर सकती है: र‍िया के वकील 
इस पर एक्‍ट्रेस रिया चक्रवर्ती के वकील सतीश मानशिंदे ने कहा कि बिहार सरकार अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले की सीबीआई जांच की सिफारिश नहीं कर सकती है, जबकि यह मामला राज्य पुलिस के जांच के क्षेत्राधिकार के बाहर का है. इस मामले का स्थानांतरण नहीं किया जा सकता है और इसमें बिहार पुलिस को शामिल करने का कोई कानूनी आधार नहीं है. ज्यादा से ज्यादा शून्य प्राथमिकी दर्ज होगी जो मुंबई पुलिस को स्थानांतरित की जाएगी.  ऐसे मामलों को सीबीआई को स्थानांतरित करने का कोई कानूनी आधार नहीं है, जिसमें उनका (बिहार पुलिस का) कोई अधिकार क्षेत्र नहीं हो.

मुंबई पुलिस अबतक 56 लोगों के बयान दर्ज कर चुकी है 
बता दें कि 34 साल के सुशांत सिंह राजपूत 14 जून को बांद्रा के अपने फ्लैट में फंदे से लटके मिले थे. मुंबई पुलिस ने इस बाबत दुर्घटनावश मौत की रिपोर्ट दर्ज की है और मामले की तहकीकात चल रही है. मुंबई पुलिस अबतक 56 लोगों के बयान दर्ज कर चुकी है. इनमें राजपूत की बहन, उनकी मित्र चक्रवर्ती और सिने जगत से जुड़ी कुछ हस्तियां शामिल हैं.

बिहार पुलिस की एक टीम मुंबई में है
राजपूत के पिता ने पटना में रिया चक्रवर्ती और उसके परिवार के अन्य सदस्यों के खिलाफ अभिनेता को खुदकुशी के लिए उकसाने के आरोप में शिकायत दर्ज कराई थी. पटना में मामला आईपीसी की धारा 341 (गलत तरह से रोकना), 342 (गलत तरीके से कैद करना), 380 (घर में चोरी करना), 406 (आपराधिक विश्वासघात), 420 (धोखाधड़ी) और 306 (खुदकुशी के लिए उकसाना) के तहत दर्ज किया गया है. राजपूत की मौत के मामले की छानबीन के लिए बिहार पुलिस की एक टीम मुंबई में है.