मंबई: कोरोना वायरस की चपेट में आज पूरी दुनिया आ चुकी है. भारत भी इस खतरनाक वायरस से अछूता नहीं है. इस खतरनाक वायरस से अबतक देशभर में 4000 लोग संक्रमित हो चुके हैं, जिसमें से संक्रमण के 541 मामले सिर्फ रविवार को आएं हैं. वहीं देशभर में इस वायरस से मरने वालों की संख्या 100 हो गई है. कोरोना वायरस से संक्रमित होने के सबसे अधिक मामले महाराष्ट्र से आए हैं. महाराष्ट्र में कोरोना वायरस से संक्रमित 13 लोगों की रविवार को मौत होने के साथ इस महामारी से राज्य में मृतकों की संख्या बढ़ कर 45 हो गई है. Also Read - लॉकडाउन: अमित शाह ने सभी मुख्यमंत्रियों को फोन कर पूछा, अब आगे क्या?

महाराष्ट्र के पुणे में रविवार को कोविड-19 के 21 और मरीज सामने आए. स्वास्थ्य विभाग के अनुसार शहर में 17 मामले मिले जबकि तीन मामले पिंपरी चिंचवाड़ में आए. अधिकारियों ने कहा कि पुणे पुलिस ने घर पर पृथकवास के नियमों का उल्लंघन करने पर आठ तंजानियाई नागरिकों के खिलाफ मामला दर्ज किया है. उन्होंने कहा कि वे पांच मार्च को भारत आए थे और 11 मार्च को पुणे पहुंचे थे. महाराष्ट्र सरकार इस वायरस के प्रसार को रोकने के लिए हरसंभव कोशिश कर रही है. Also Read - स्मृति ईरानी ने कहा- कांग्रेस देश की चुनौतियों से फायदा उठाने की कोशिश में है, वो यही कर सकती है

सरकार ने यह भी संकेत दिया है कि लोग अगर लॉकडाउन का पालन नहीं करेंगे और कोविड-19 (COVID-19) के मामले बढ़े तो महाराष्ट्र सरकार 14 अप्रैल को लॉकडाउन नहीं हटाएगी. महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने शनिवार को यह बात कही थी. राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन (Lockdown) 14 तारीख को खत्म हो रहा है. इस बीच प्रदेश के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री छगन भुजबल ने राकांपा अध्यक्ष शरद पवार से यहां मिलकर उन्हें कोरोना वायरस के मद्देनजर लोगों के लिए अपने विभाग द्वारा उठाए गए कदमों की जानकारी दी. टोपे ने लोगों से अनुरोध किया कि वे सख्त अनुशासन का पालन करें जिससे इस महामारी के मामलों में गिरावट आए जिससे बंद को खत्म करने का मार्ग प्रशस्त होगा. Also Read - एक मई से 3736 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों से 50 लाख प्रवासियों ने की यात्रा, यूपी-बिहार पहुंचीं सबसे ज्यादा ट्रेनें