मुंबई: प्रसिद्ध चित्र ‘ग्लो ऑफ होप’ में लैंप हाथ में ली हुई युवती जिन्हें ‘वुमन विद द लैंप’ के नाम से भी जाना जाता है, उनका 102 साल की उम्र में महाराष्ट्र के कोल्हापुर में निधन हो गया. आज भी देशभर में आकर्षण का केंद्र बना हुआ वह चित्र लगभग सात दशक पहले 1945-46 में बनाया गया था.Also Read - Input Tax Credit Racket: मुंबई में 35 करोड़ रुपए के फर्जी इनपुट टैक्स क्रेडिट रैकेट का किया गया भंडाफोड़

Also Read - क्‍या शिवसेना कांग्रेस के नेतृत्‍व वाले UPA में होगी शामिल? संजय राउत ने दिया ये जवाब

परिवार के सूत्रों ने बताया कि गीता उपलेकर का पश्चिमी महाराष्ट्र के कोल्हापुर में उनकी बेटी के घर पर मंगलवार शाम को निधन हो गया. वह कुछ समय से बीमार थीं. दिवंगत भारतीय चित्रकार एस एल हलदणकर द्वारा बनाया गया वह उत्कृष्ट चित्र कर्नाटक के मैसूरू में जगनमोहन पैलेस में जयचामा राजेंद्र आर्ट गैलरी की शोभा बढ़ा रहा है. गैलरी के सबसे कीमती चित्र में से एक होने के साथ ही यह वहां आकर्षण का मुख्य केंद्र है. Also Read - Maharashtra Omicron Update: 30 हजार यात्र‍ियों की COVID19 स्‍क्रीनिंग में अब तक 10 ओमीक्रोन पॉजिटिव मिले

तीन तलाक अध्यादेश के खिलाफ बम्बई हाईकोर्ट में याचिका दायर

चित्रकार हलदणकर की तीसरी संतान थी गीता उपलेकर

गीता उपलेकर चित्रकार हलदणकर की तीसरी संतान थी. कृष्णकांत उपलेकर से विवाह के बाद वर्ष 1940 से ही वह कोल्हापुर में रह रही थीं. गीता के भतीजे राजा उपलेकर ने पीटीआई-भाषा को बताया कि मंगलवार को उनका अंतिम संस्कार किया गया. गीता की दो बेटी और एक बेटा है. (इनपुट एजेंसी)