Maharashtra Politics News: पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) और शिवसेना नेता संजय राउत (Sanjay Raut) की मुलाकात के बाद महाराष्ट्र (Maharashtra) के राजनीतिक गलियारों में अटकलों का बाजार गर्म हो गया. बीजेपी ने बयान जारी कर कहा कि इस मुलाकात के कोई राजनीतिक मायने नहीं हैं. अब इसे लेकर संजय राउत का भी बयान आया है. न्यूज एजेंसी ANI से बात करते हुए राउत ने कहा, ‘मैं कुछ मुद्दों पर चर्चा करने के लिए देवेंद्र फडणवीस से मिला. वह पूर्व मुख्यमंत्री हैं और इसके अलावा महाराष्ट्र में विपक्ष के नेता हैं. इसके साथ-साथ वह भाजपा के बिहार प्रभारी भी हैं.Also Read - दिल्‍ली में सियासी मुलाकातें: शरद पवार मिले लालू यादव से, ममता बनर्जी मिलीं अरविंंद केजरीवाल से

Also Read - Kerala Corona Latest Updates: केरल में क्यों बढ़े कोरोना के मामले? BJP प्रवक्ता संबित पात्रा ने बताई 'असली' वजह

संजय राउत ने कहा कि हमारे बीच वैचारिक मतभेद हो सकते हैं, लेकिन हम दुश्मन नहीं हैं. मुख्यमंत्री (उद्धव ठाकरे) को हमारी बैठक के बारे में पता था. बता दें कि राउत ने मुंबई के एक होटल में देवेंद्र फडणवीस से मुलाकात की थी. Also Read - बीजेपी विधायक ने कहा- ऑक्सीजन की कमी से सैकड़ों लोग तड़प-तड़प कर मरे, दर्द किसी को दिखाई नहीं देता

वहीं, शिरोमणी अकाली दल (SAD) के NDA गठबंधन से अलग होने पर शिवसेना नेता संजय राउत ने बात की. संजय राउत ने कहा, ‘NDA के मजबूत स्तंभ शिवसेना और अकाली दल थे. शिवसेना को मजबूरन NDA से बाहर निकलना पड़ा, अब अकाली दल निकल गया. NDA को अब नए साथी मिल गए हैं, मैं उनको शुभकामनाएं देता हूं. जिस गठबंधन में शिवसेना और अकाली दल नहीं हैं मैं उसको NDA नहीं मानता.’

उधर, महाराष्ट्र भाजपा के मुख्य प्रवक्ता केशव उपाध्ये ने कहा कि इस मुलाकात के कोई राजनीतिक मायने नहीं है. उन्होंने ट्वीट किया, ‘राउत ने (शिवसेना के मुखपत्र) सामना के लिए फडणवीस का इंटरव्यू लेने की इच्छा व्यक्त की थी और इसी बारे में चर्चा करने के लिए यह मुलाकात हुई थी.’

प्रवक्ता ने कहा, ‘फडणवीस ने राउत से कहा है कि वह बिहार में चुनाव प्रचार करके लौटने के बाद उन्हें साक्षात्कार देंगे. इस भेंट का कोई राजनीतिक संदर्भ नहीं है.’

बता दें कि शिवसेना और भाजपा ने पिछले साल विधानसभा चुनाव मिलकर लड़ा था, लेकिन चुनाव के बाद सत्ता में साझेदारी को लेकर उद्धव ठाकरे नीत पार्टी भाजपा का साथ् छोड़ गई थी और राकांपा तथा कांग्रेस के साथ मिलकर महाराष्ट्र में सरकार बना ली थी.