मुम्बई: शिवसेना की अगुवाई वाली महाराष्ट्र सरकार ने रविवार को 71वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर गरीबों को दस रुपये में भोजन उपलब्ध कराने की बहुप्रतीक्षित ‘शिवभोजन’ येाजना शुरू की. प्रयोग के तौर पर यह योजना शुरू की गयी है जिसके तहत सभी जिलों में निर्धारित समय पर तय केंद्रों/कैंटीनों में लोगों को थाली या लंच प्लेट उपलब्ध कराया जाएगा. यह योजना शिवसेना के चुनावी वादों में एक था. शिवसेना महाराष्ट्र में राकांपा और कांग्रेस के साथ मिलकर गठबंधन सरकार चला रही है.

 

मुम्बई में जिले के प्रभारी मंत्री असलम शेख ने नगर निकाय के नैयर अस्पताल की कैंटीन में ‘शिवभोजन थाली’ का उद्घाटन किया. ऐसे ही एक केंद्र का बांद्रा के जिलाधिकारी कार्यालय में पर्यटन मंत्री और मुम्बई उपनगर के जिला प्रभारी मंत्री ने शुभारंभ किया. पुणे और नासिक के भी प्रभारी मंत्रियों क्रमश: अजीत पवार और छगन भुजबल ने अपने अपने जिलों में यह योजना शुरू की. अधिकारियों के अनुसार प्रभारी मंत्रियों और अन्य गणमान्य अतिथियों ने विभिन्न जिलों में इस केंद्र का शुभारंभ किया.

थाली में दो चपाती, एक सब्जी, चावल और दाल शामिल
इस थाली में दो चपाती, एक सब्जी, चावल और दाल शामिल है. अधिकारियों के मुताबिक दिन के 12 बजे से लेकर दो बजे तक यह थाली उपलब्ध हेागी. हर कैंटीन में रोजाना कम से कम 500 थालियां मिलेंगी. आदित्य ठाकरे ने ट्वीट किया कि इस योजना का लक्ष्य सभी को सस्ता और अच्छा भोजन उपलब्ध कराना है, भले ही उसकी जाति, पंथ या वित्तीय स्थिति कुछ भी हो. राज्य सरकार इस प्रायोगिक योजना पर 6.4 करोड़ रूपये का खर्च करेगी. यह प्रायोगिक परियोजना तीन महीने के लिए है.