मुंबई: छत्रपति शिवाजी महाराज के राज्यभिषेक, ऐतिहासिक ‘शिवराज्यभिषेक’और महाराष्ट्र विधानसभा भवन की विशाल चित्र की पृष्ठभूमि वाले मंच पर महाराष्ट्र के राज्यपाल बी.एस. कोश्यारी शिवसेना अध्यक्ष और महा विकास अघाड़ी के नेता उद्धव ठाकरे को नए मुख्यमंत्री के रूप में गुरुवार शाम ऐतिहासिक शिवाजी पार्क में शपथ दिलवाएंगे. प्रसिद्ध बॉलीवुड कला निर्देशक नितिन देसाई के निर्देश में 1,000 कामगार और डिजाइनर बुधवार शाम से ‘शिवराज्याभिषेक’ का सेट और 8,000 वर्ग फुट का विशाल मंच तैयार करने में जुटे हुए हैं, जिस पर 300 लोगों के बैठने की व्यवस्था होगी. उधर, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने बृहस्पतिवार को महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने जा रहे शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे को शुभकामनाएं दीं और शपथ ग्रहण समारोह में शामिल नहीं हो पाने के लिए खेद प्रकट किया.

महाराष्ट्र विधानमंडल के किसी सदन के सदस्य नहीं रहते हुए भी सीएम बनेंगे उद्धव, होंगे ऐसे 8वें मुख्यमंत्री

सरकार और शिवसेना ने अतिथियों को मंच के सामने बैठाने के लिए 40,000 कुर्सियों की व्यवस्था करने के आदेश दिए हैं. इसके अलावा शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस के लगभग 3,00,000 कार्यकर्ताओं के दादर पश्चिम स्थित ऐतिहासिक शिवाजी पार्क में बाकी बचे हिस्से में उपस्थित रहने की संभावना है. मुंबई पुलिस ने शपथ ग्रहण समारोह में अति महत्वपूर्ण लोगों के भाग लेने के चलते कई जगहों पर यातायात पाबंदी लगाई है. जिन लोगों को निमंत्रण दिया गया है, उनमें प्रमुख शख्सीयतों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, सभी राष्ट्रीय पार्टियों के नेता, कई राज्यों के मुख्यमंत्री, न्यायपालिका, पुलिस और रक्षा अधिकारी तथा खेल, उद्योग व फिल्म जगत की हस्तियां शामिल हैं. इसके अलावा 500 से ज्यादा किसान भी शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होंगे.

आखिर क्यों शिवाजी पार्क में ही सीएम पद की शपथ लेंगे उद्धव ठाकरे? जानिए 10 रोचक तथ्य

तीनों मुख्य पार्टियों के दो-दो विधायक भी लेंगे मंत्री पद की शपथ
मौजूदा संकेतों के अनुसार, ठाकरे के अलावा गठबंधन के तीनों मुख्य पार्टियों के दो-दो विधायक भी मंत्री पद की शपथ ले सकते हैं, जबकि बाकी मंत्री दिसंबर की शुरुआत में शपथ लेंगे. यह दूसरी बार है जब एक शिवसेना सरकार शिवाजी पार्क में शपथ ले रही है. इससे पहले 1995 में शिवसेना-भाजपा नीत गठबंधन की सरकार ने यहां शपथ लिया था. ठाकरे राज्य के इस प्रतिष्ठित राजनीतिक घराने के पहले और मनोहर जोशी(1995-1998) और नारायण राणे(1999) के बाद शिवसेना के तीसरे मुख्यमंत्री होंगे. ठाकरे चूंकि किसी भी सदन के सदस्य नहीं हैं, लिहाजा पार्टी के रणनीतिकार इस बात पर मंथन कर रहे हैं कि किस विधानसभा सीट से उन्हें उपचुनाव लड़ना चाहिए. छह माह के अंदर या मई के अंत तक उन्हें उपचुनाव में जीत दर्ज करना जरूरी है.

शिवसेना भवन के बाहर लगे इंदिरा गांधी और बाला साहेब ठाकरे के पोस्टर, देखें तस्वीर

सोनिया ने उद्धव को शुभकामनाएं दीं, शपथग्रहण में शामिल नहीं होने पर खेद जताया
कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने बृहस्पतिवार को महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने जा रहे शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे को शुभकामनाएं दीं और शपथ ग्रहण समारोह में शामिल नहीं हो पाने के लिए खेद प्रकट किया. उन्होंने उद्धव को पत्र लिखकर शुभकामनाएं दी हैं. सोनिया ने कहा कि जब देश के सामने भाजपा से अप्रत्याशित खतरे पैदा हुए हैं, उस समय शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और राकांपा एक साथ आई हैं.