औरंगाबाद: केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने रविवार को कहा कि तापी, दमनगंगा और पिंजर नदियों का पानी अहमदनगर और नासिक जिलों के रास्ते मराठावाड़ा लाने की योजना तैयार है और इससे यहां पानी संकट समाप्त करने में सफलता मिलेगी. उन्होंने कहा कि इन नदियों का पानी पश्चिम की ओर बहकर अरब सागर में जा रहा है.

उन्होंने कहा कि तापी, दमनगंगा और पिंजर नदियों का पानी अहमदनगर और नासिक जिलों के रास्ते मराठावाड़ा लाने की योजना तैयार है. गुजरात और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्रियों के हस्ताक्षर होना बाकी हैं. पानी की कोई कमी नहीं है बल्कि नियोजन की कमी है. गडकरी ने मराठवाड़ा के जन प्रतिनिधियों को चेतावनी देते हुए कहा कि उनके मंत्रालय ने पिछले पांच सालों में 15-17 लाख करोड़ रूपये की परियोजनाएं पूरी की हैं लेकिन कोई भी ठेकेदार पैसे के साथ उनके पास नहीं पहुंचा.

विकास सभी के लिए है: केंद्रीय मंत्री
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि विकास सभी के लिए है और जन प्रतिनिधियों को अवश्य ही सहयोग करना चाहिए. यदि जनप्रतिनिधि काम रोकते हैं तो उन्हें सीबीआई छापे का सामना करना पड़ सकता है. सूक्ष्म, लघु और मझौले उपक्रम मंत्री ने यह भी कहा कि वाहन निस्तारण नीति तैयार की जा रही है जिससे प्लास्टिक, रबड़ और स्टील की चीजें सस्ती दरों पर उपलब्ध होंगी क्योंकि उन्हें पुन: चक्रित सामग्री से बनाया जाएगा. वह महाराष्ट्र लघु उद्योग और कृषि संघ द्वारा आयोजित ‘एडवांटेज महाराष्ट्र एक्सपो’ के समापन समारोह में बोल रहे थे.