Vaccination Suspended in Maharashtra:आज से देशभर में कोरोना वायरस के खिलाफ सबसे बड़ी और आखिरी जंग शुरू हो गई है. पूरे देश में एक लंब इंतजार के बाद वैक्सीनेशन की शुरूआत हुई. कोरोना वैक्सीनेशन के पहले चरण फ्रंट लाइन वॉरियर्स को वैक्सीन दी जा रही है जिसमें सबसे पहले स्वास्थ्यकर्मियों को वैक्सीन लगाई गई. कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित रहने वाले राज्य महाराष्ट्र में भी आज से वैक्सीन लगाने की शुरुआत हुई लेकिन अब वैक्सीनेशन प्रोग्राम को राज्य में रोक दिया गया है. Also Read - PSL स्थगित, सोशल मीडिया पर IPL की आलोचना पर जमकर ट्रोल हुए Dale Steyn

महाराष्ट्र के स्वास्थ्य विभाग ने जानकारी दी कि कोविड ऐप में टेक्निकल परेशानी की वजह से राज्य में दो दिन यानी 18 जनवरी तक कोविड-19 वैक्सीनेशन प्रोग्राम को रोका जा रहा है और ऐप के दोबारा ठीक से काम करने और डेटा के ठीक प्रकार से रिकॉर्ड होने के बाद राज्य में वैक्सीनेशन की प्रक्रिया शुरू की जाएगी. Also Read - COVID-19: देश में 24 घंटे में 16,838 नए मामले आए, 113 मरीजों की हुई मौत

आपको बता दें कि इससे पहले ओडिशा राज्य में भी कोरोना वैक्सीनेशन के कार्यक्रम को रोका गया है लेकिन वहां कोविड ऐप की वजह नहीं बल्कि इस वजह से रोका गया है ताकि जिन लोगों को वैक्सीन दी गई है उनका ठीक प्रकार से परीक्षण किया जा सके. अतिरिक्त मुख्य सचिव (स्वास्थ्य) प्रदीप महापात्र ने कहा, “हम वैक्सीन लेने वालों का निरीक्षण करना चाहते हैं. हालांकि सोमवार से सभी 3.28 लाख स्वास्थ्य कर्मचारियों का टीकाकरण अभियान जारी रहेगा.”

वैक्सीनेशन को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय ने जानकारी देते हुए बताया कि पहले दिन 3,352 सत्र स्थलों पर 1.90 लाख से अधिक लाभार्थियों का कोविड-19 टीकाकरण किया गया और अब तक टीका लगाये जाने के बाद किसी को अस्पताल में भर्ती किये जाने का कोई मामला सामने नहीं आया है. सरकार ने यह बात कोरोना वायरस के खिलाफ भारत के व्यापक टीकाकरण अभियान के पहले दिन कही.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय में अतिरिक्त सचिव मनोहर अगनानी ने एक प्रेस वार्ता में कहा कि पहले दिन कोविड-19 टीकाकरण अभियान सफलतापूर्वक चलाया गया. उन्होंने कहा कि 3,352 टीकाकरण सत्र आयोजित किये गये जहां 1,91,181 लाभार्थियों को टीका लगाया गया. अगनानी ने कहा कि टीकाकरण सत्रों को आयोजित करने में 16,755 कर्मी शामिल थे.

जिन 11 राज्यों और केंद्रशासित में कोविशील्ड और कोवैक्सीन दोनों टीके लगाये गये वे असम, बिहार, दिल्ली, हरियाणा, कर्नाटक, महाराष्ट्र, ओडिशा, राजस्थान, तमिलनाडु, तेलंगाना और उत्तर प्रदेश हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को टीकाकरण अभियान की शुरुआत की.