नई दिल्‍ली: महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मंगलवार को नागपुर में कहा कि जामिया मिलिया इस्‍लामिया में जो हुआ वह जलियांवाला बाग जैसा है. छात्र एक युवा बम हैं. इसलिए हम केंद्र सरकार से रिक्‍वेस्‍ट करते हैं कि वह न करें, जो वह छात्रों के साथ कर रही हैं.

सीएम ठाकरे ने कहा, जिस देश में युवा बिखरता है तो उस देश में स्थिरता नहीं रह सकती है. इसलिए मैं केंद्र सरकार से कहता हूं कि आप युवाओं को बिखेरे नहीं, युवा हमारे देश के भविष्‍य का आधार स्‍तंभ शक्‍ति है.

ठाकरे ने इस पर कहा, यह समाज में अशांति का माहौल बनाने का सोचा-समझा प्रयास है. जिस प्रकार से पुलिस ने परिसर में जबरदस्ती घुसकर छात्रों पर फायरिंग की, वह जलियांवाला बाग हत्याकांड के जैसा प्रतीत होता है. शिवसेना प्रमुख व सीएम ने कहा, ”युवा किसी बम की तरह हैं जिसमें विस्फोट नहीं होना चाहिए. मेरा प्रधानमंत्री से यह विनम्र अनुरोध है.”

उन्होंने कहा कि देश के युवाओं में मन में भय पैदा किया जा रहा है. मुख्यमंत्री ने कहा, मुझे लगता है कोई भी ऐसा देश स्थिर नहीं रह सकता,जहां के युवा परेशान हों. मैं केंद्र से इस देश के युवाओं को अस्थिर नहीं करने की अपील करता हूं. ठाकरे ने कहा कि युवा देश का भविष्य हैं और उनमें अपार क्षमताएं हैं.

नागरिकता कानून और राष्ट्रीय नागरिक पंजी को लेकर प्रदर्शनों पर उन्होंने कहा की राज्य में अभी तक शांति है.

बता दें कि दिल्‍ली के जामिया मिलिया इस्‍लामिया में रविवार को नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में विश्वविद्यालय परिसर उस वक्त जंग के मैदान में तब्दील हो गया था जब पुलिस परिसर में घुस आई थी और वहां बल प्रयोग किया था. दरअसल, संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान हिंसा और आगजनी हुई थी जिसमें चार डीटीसी बसों, 100 निजी वाहनों और 10 पुलिस वाहनों को नुकसान पहुंचाया गया जिसके बाद पुलिस ने यह कार्रवाई की.

बता दें कि एक दिन पहले सोमवार की रात को ठाकरे ने नागपुर में कहा था कि शिवसेना हिंदुत्ववादी बनी रहेगी और जहां तक विचारधारा की बात है, वह बदली नहीं है. नागपुर में शिवसेना कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए ठाकरे ने कहा कि ऐसा लगता है कि बीजेपी नीत केंद्र सरकार के पास इस बारे में कोई आइडिया नहीं है कि कहां और कैसे हिंदुओं और अन्य प्रवासियों को बसाया जाए, जो नए कानून (नागरिकता संशोधन कानून) के तहत भारतीय नागरिकता पाने वाले हैं.

ठाकरे ने कहा था, हम बेशक हमेशा से हिंदुत्ववादी हैं. मैंने ऐसा विधानसभा में भी कहा था….” उल्‍लेखनीय है कि राज्य में शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के साथ गठबंधन सरकार चला रही है. ठाकरे ने यह भी कहा कि शिवसेना देश में अशांति पैदा करने के लिए हिंदुत्व का मुद्दा उठाने की इजाजत नहीं देगी. (इनपुट: एजेंसी)