चंडीगढ़. आम आदमी पार्टी (आप) के स्टार प्रचारक और पंजाब से पार्टी के सांसद भगवंत मान ने अरविंद केजरीवाल और आप नेतृत्व पर सवाल खड़े कर दिए हैं. एमसीडी चुनावों के नतीजों से पहले भगवंत मान ने कहा कि ईवीएम में गलती ढूंढने का कोई मतलब नहीं है. पार्टी नेतृत्व ने पंजाब चुनावों की पूरी रणनीति को लेकर ऐतिहासिक भूल की है. मान ने बिना किसी नेता का नाम लिए कहा, ‘पार्टी नेतृत्व एक मोहल्ला क्रिकेट टीम की तरह व्यवहार कर रही थी और आप ने पंजाब ने एक ऐतिहासिक भूल की है.’ मान ने एक अखबार को दिए इंटरव्यू में यह बात कही.

अंग्रेजी अखबार के साथ बातचीत में मान ने कहा कि हार के कारणों की जांच के लिए पार्टी को सबसे पहले अपने अंदर की कमियां को देखना चाहिए.’ भगवंत मान ने दूसरे राजनीतिक विकल्पों की ओर भी इशारा किया. ‘उन्होंने कहा कि उनके लिए सभी राजनीतिक विकल्प खुलें हैं और मई में अमेरिका से लौटने के बाद वह इस पर गौर करेंगे.’

मान ने यह भी कहा कि उन्होंने आप के संयोजक अरविंद केजरीवाल के सामने विस्तार से अपनी बात रख दी है और उन्हें बताया है कि कैसे पंजाब में हार के लिए पार्टी का शीर्ष नेतृत्व जिम्मेदार है. उन्होंने कहा, ‘पार्टी बिना अपना कोई कप्तान चुने चुनाव में उतर गई. यह एक मोहल्ला क्रिकेट टीम जैसी थी जिसमें हर खिलाड़ी खुद ही फैसला करता है कि उसे कहां, कितना खेलना है और वह बेटिंग करेगा या बॉलिंग. हर कोई यह सवाल पूछ रहा था कि जीतने के बाद पार्टी की तरफ से मुख्यमंत्री कौन बनेगा?’

भगवंत मान की नाराजगी पहले से ही नजर आने लगी थी. जहां उन्होंने पंजाब चुनाव में 100 से भी ज्यादा रैलियां की थीं वहीं वह दिल्ली नगर निगम में एक भी रैली करने नहीं आए. दिल्ली विधानसभा चुनाव 2015 में भगवंत मान ने काफी मेहनत की थी। इस दौरान उन्होंने 100 से भी अधिक रैलियां की थी। जबकि इस के उलट दिल्ली के एमसीडी चुनाव में भगवंत मान ने एक भी चुनावी रैली नहीं की।

केवल दिल्ली में ही नहीं बल्कि पंजाब में भी आप आदमी पार्टी की गतिविधियों से भगवंत मान गायब दिखाई दे रहे हैं। हाल में, चंडीगढ़ में हुई पार्टी की पंजाब इकाई की मीटिंग में भगवंत मान के अलावा पार्टी की सीनियर लीडरशिप मौजूद रही।