Fine from Mask Rule Violators: देश से अब भी कोविड-19 का खात्मा नहीं हुआ है. कोरोना की दोनों लहरों में अब तक 4 लाख, 54 हजार से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है. 3 करोड़, 35 लाख, 67 हजार से ज्यादा रोगी ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं, जबकि अब तक कुल संक्रमितों की संख्या 3 करोड़ 41 लाख, 89 हजार से ज्यादा पहुंच चुकी है. अब भी देश में 1 लाख, 67 हजार से ज्यादा लोग कोविड-19 से संक्रमित हैं. यही कारण है कि सरकारें कोविड-19 प्रोटोकॉल फॉलो करने के लिए कह रही हैं. इसके बावजूद कई लोग कोविड-19 प्रोटोकॉल को फॉलो नहीं करते, ऐसे लोगों से सरकारें जुर्माना वसूल करती हैं.Also Read - Jawahar Navodaya Vidyalaya: नवोदय विद्यालय के 59 छात्र समेत 69 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित

कोविड प्रोटोकॉल के तहत सभी लोगों को सार्वजनिक स्थानों पर मास्क पहनना अनिवार्य है. इसके अलावा समय-समय पर साबुन-पानी से हाथ धोना या सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना भी महत्वपूर्ण है. लोगों को सलाह दी जाती है कि जब तक बहुत जरूरी न हो, तब तक सार्वजनिक स्थानों पर जाने से बचना चाहिए. सार्जनिक स्थानों पर मास्क पहनना अनिवार्य होने के बावजूद लोग मास्क को झंझट समझते हैं और इस नियम की अनदेखी करते हैं. Also Read - Omicron Cases Update: अब महाराष्‍ट्र में मिला ओमीक्रोन का नया केस, देश में अब तक कुल 4 केस

नियमों की अनदेखी करने पर मुंबई में बीएमसी ने 24 अक्टूबर तक कुल 77 करोड़, 37 लाख, 41 हजार रुपये का जुर्माना वसूला है. हालांकि, 39 हजार करोड़ रुपये के बजट वाली बीएमसी के लिए यह राशि बेहद मामूली है, लेकिन 77 करोड़ रुपये से ज्यादा सिर्फ मास्क न पहनने वालों से वसूली एक बड़ी रकम जरूर है. Also Read - Delhi COVID19 Update: Omicron के भय के बीच दिल्‍ली में कोरोना के 51 नए मामले आए

सिर्फ महाराष्ट्र की ही बात करें तो अब तक 66 लाख कोविड-19 के मामले सामने आ चुके हैं, जिसमें से 1.4 लाख लोगों की जान जा चुकी है. इस समय पूरे महाराष्ट्र के 77 फीसद मामले पुणे और मुंबई क्षेत्र से ही सामने आ रहे हैं. ऐसे में लोगों से आग्रह किया जा रहा है कि वे मास्क पहनकर ही बाहर निकलें.

देश में रविवार को भी 14 हजार से ज्यादा नए मामले सामने आए हैं, जबकि मृतकों का आंकड़ा एक बार फिर बढ़कर 24 घंटे में 443 तक जा पहुंचा है. देश ने हाल ही में 100 करोड़ वैस्कसीनेशन के आंकड़े को पार किया है, इसके साथ ही हमें ये भी समझना होगा कि देशी की 135 करोड़ की जनसंख्या के लिहाज से अभी तक आधी आबादी भी पूरी तरह से वैक्सीनेटिड नहीं है. क्योंकि हर व्यक्ति को दो वैक्सीन दी जानी अनिवार्य हैं, और देश ने अभी तक 100 करोड़ के आंकड़े को पार किया है. (इनपुट – एएनआई)