नई दिल्ली: रेलवे ने कांग्रेस के 2014 में आईआरसीटीसी द्वारा अमेठी में रेल नीर का संयंत्र शुरू करने के दावे को नकारते हुए शनिवार को कहा है कि यह संयंत्र 2015 में शुरू किया गया था. इस दावे के बाद रेलवे ने ये बात कही है. अमेठी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का संसदीय क्षेत्र है. Also Read - IRCTC की तीन निजी ट्रेनों में 30 अप्रैल तक के लिए टिकट की बुकिंग नहीं होगी

बता दें कि शुक्रवार को ट्वीट में कांग्रेस ने दावा किया था कि संयंत्र 2014 में स्थापित किया गया था लेकिन बाद में भाजपा के हैंडल से किए गए ट्वीट में कहा गया कि इसे 2015 में शुरू किया गया था. अधिकारियों ने बताया कि संयंत्र की घोषणा 2010-2011 के बजट में की गयी थी और इसका शिलान्यास फरवरी 2014 में चुनावों से पहले किया गया था. Also Read - Covid-19: राहुल गांधी ने अमेठी में शुरू कराया सेनिटाइजर और मास्क का वितरण

उन्होंने बताया कि आईआरसीटीसी ने इसे 2015 में शुरू किया था. इस संयंत्र की क्षमता प्रतिदिन भारतीय रेलवे के लिए 72000 हजार बोतल बनाने की है और यह लखनऊ रेलवे स्टेशन से 125 किलोमीटर दूर अमेठी के टिकरिया में स्थित है. यहां से रेल नीर की बोतलें लखनऊ, कानपुर, इलाहाबाद, गोरखपुर और वाराणसी जैसे बड़े स्टेशनों को आपूर्ति की जाती है. Also Read - लॉकडाउन के बाद ट्रेन चलेंगी या नहीं, भारतीय रेलवे ने इसे लेकर दिया बड़ा बयान, कहा- जब...