नई दिल्ली/कूचबिहार (पश्चिम बंगाल): पश्चिम बंगाल में रथयात्रा की इजाजत नहीं देने के बाद बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने ममता बनर्जी पर हमला बोला है. अमित शाह ने कहा कि ममता बनर्जी की सरकार ने बीजेपी की रथयात्राओं को रोकने का प्रयास किया. उन्होंने कहा कि अगर वहां बीजेपी की रथयात्राएं और रैली हो जाती हैं तो आने वाले चुनानों की स्थिति कुछ और होगी. इसीलिए बीजेपी की रथयात्राओं को रोकने की कोशिश की गई. उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल सरकार ताकत और सत्ता का गलत इस्तेमाल कर रही है. लोकतंत्र को दबाया जा रहा है. पंचायत चुनाव में बड़े पैमाने पर हिंसा हुई. बीजेपी के 20 कार्यकर्ताओं की हत्या कर दी गई. पंचायत चुनाव में 65 से अधिक राजनैतिक हत्याएं हुईं. इसके बाद भी पंचायत चुनाव में सात हजार सीट जीत बीजेपी बंगाल की दूसरी बड़ी पार्टी बनी. पंचायत चुनाव के बाद ममता बनर्जी की नींद उड़ी हुई है, वह घबराई हुई हैं, इसीलिए बीजेपी की रथयात्रा रोकने का काम किया गया है.

इससे पहले रथयात्रा कार्यक्रम पर अनिश्चितता की स्थिति के बाद पार्टी ने आगे की रणनीति तय करने के लिए अमित शाह ने पश्चिम बंगाल के कूचबिहार में आपात बैठक की थी. बता दें कि कलकत्ता उच्च न्यायालय ने गुरुवार को भाजपा को कूचबिहार में रथयात्रा निकालने की अनुमति नहीं दी थी. इससे पहले पश्चिम बंगाल सरकार ने इसकी अनुमति देने से इनकार करते हुए कहा था कि इससे सांप्रदायिक तनाव फैल सकता है. भाजपा अध्यक्ष अमित शाह का शुक्रवार को यहां से रथयात्रा को हरी झंडी दिखाने का कार्यक्रम था. पार्टी ने शाह की प्रस्तावित रैली और रथयात्रा पर रोक लगाने का फैसला किया है. भाजपा ने कहा कि वह उच्च न्यायालय के अंतिम आदेश का इंतजार करेगी.

उच्च न्यायालय ने दोपहर 12:30 बजे भाजपा की अपील पर सुनवाई करने को कहा था. सुबह 10:30 बजे शुरू हुई आपात बैठक में भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के साथ अरविंद मेनन, शिव प्रकाश, दिलीप घोष और मुकुल रॉय जैसे अन्य वरिष्ठ नेता भाग ले रहे हैं. कुछ पार्टी नेताओं ने नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर पीटीआई से कहा कि अगर भाजपा प्रस्तावित रथयात्रा नहीं निकाल पाती तो इससे पार्टी के कार्यकर्ताओं के बीच गलत संदेश जाएगा. राज्य के एक वरिष्ठ भाजपा नेता ने कहा, ‘हम अदालत के फैसले का इंतजार कर रहे हैं. हमने दोपहर दो बजे पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक बुलाई है.’ भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के अब यात्रा के लिए नहीं आने की खबरों पर पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि उन्हें इसकी जानकारी नहीं है. घोष ने इससे पहले आज कहा था कि उनकी पार्टी को न्यायपालिका पर पूरा विश्वास है और उम्मीद है कि पार्टी शुक्रवार से रथयात्रा शुरू कर सकेगी. घोष और अन्य पार्टी नेताओं ने यहां मदन मोहन मंदिर में पूजा भी की.