नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सोनिया गांधी और राहुल गांधी पर निशाना साधने के बाद सोमवार को कांग्रेस ने पलटवार किया और आरोप लगाया कि वह नोटबंदी से जुड़े ‘घोटालों’ को छिपाने के लिए ‘भद्दे’ बयान दे रहे हैं. उन्होंने कहा कि पार्टी किसी भी कीमत में झुकने वाली नहीं है. पार्टी प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने संवाददाताओं से कहा कि हम ‘भद्दे बयानों’ पर टिप्पणी नहीं करते, लेकिन प्रधानमंत्री पद पर बैठे व्यक्ति की तरफ से कुछ कहा गया है तो उस पर बोलना पड़ेगा.

उन्होंने कहा कि सच्चाई यह है कि नोटबंदी के काले कारनामों और घोटालों को छिपाने के लिए आपको ये सब वक्तव्य मिल रहे हैं. वो क्या काले कारनामे थे, आप लोग जानते हैं. उसका जवाब आजतक प्रधानमंत्री नहीं देते हैं. उन्होंने कहा कि ‘झूठ के पांव नहीं होते और आज आप झूठ के शहंशाह से एक बहुत बड़ा झूठ सुन रहे हैं. नोटबंदी के द्वारा उन्होंने अर्थव्यवस्था को तहस-नहस कर दिया. इतिहास में इतना बड़ी भूल भारत में किसी ने कभी नहीं की. नोटबंदी के विषय में पूरे विश्व में एक आपके सिवाय कोई इसका समर्थन नहीं करता. वह खुद नोटबंदी की दूसरी बरसी मनाने से डर रहे हैं.’

पीएम मोदी का राहुल और सोनिया पर हमला, मां-बेटा जमानत पर हैं और नोटबंदी पर सवाल उठा रहे हैं

सिंघवी ने कहा कि वह प्रधानमंत्री को बताना चाहता हैं कि ब्रिटिश सरकार ने भी झूठे मामलों के जरिए कांग्रेस को डराने की कोशिश की थी, लेकिन हम नहीं डरे। उन्होंने कहा कि आज हम ब्रिटिश सरकार की तरह प्रतिशोध की राजनीति करने वाली भाजपा से भी नहीं डरते हैं. दअरसल, प्रधानमंत्री मोदी ने छत्तीसगढ़ में एक चुनावी सभा के दौरान गांधी परिवार पर निशाना बनाते हुए मोदी कहा कि ‘मां-बेटा जमानत पर बाहर हैं. सरकार के नोटबंदी के कदम पर सवाल उठाने के लिये उन्हें आड़े हाथ लेते हुए मोदी ने कहा कि ‘वे भूल जाते हैं कि नोटबंदी की वजह से उन्हें जमानत मांगनी पड़ी थी. जो जमानत मांग रहे हैं, वे मोदी को सर्टिफिकेट दे रहे हैं.’