Covid-19 New Strain:ब्रिटेन में मिले कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन को लेकर दुनिया भर में एक बार फिर से हड़कंप मचा हुआ है. इस बीच तीसरा नया स्ट्रेन भी मिला है. इस कोरोना वायरस के नए प्रकार को देखते हुए भारत समेत पूरी दुनिया के 50 से अधिक देशों ने ब्रिटेन की यात्रा पर तत्काल प्रतिबंध लगा दिया है. Also Read - शहीद कर्नल के पिता ने कहा, संतोष बाबू को महावीर चक्र से सम्मानित करने पर 100 प्रतिशत संतुष्ट नहीं हूं

भारत सरकार ने भी प्रतिबंध तो लगाया लेकिन उसके पहले ही सैकड़ों की संख्या में ब्रिटेन से आए नागरिक देश के अलग-अलग राज्यों में पहुंच चुके हैं. इतना ही नहीं इसमें कई यात्री ऐसे भी हैं जो कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. इन सभी लोगों के नमूनों को जांच के लिए आगे भेज दिया गया है. जानकारी के मुताबिक नया स्ट्रेन पहले वाले वायरस के मुकाबले 70 फीसद अधिक तेजी से फैसला है. वहीं, सरकार ने आश्वस्त किया है कि ब्रिटेन में कोरोना वायरस के नए स्वरूप से घबराने की जरूरत नहीं है. Also Read - Covid-19: देश में कोरोना के 9,102 नए केस, बीते 8 महीनों में सबसे कम मौतें

ब्रिटेन से भारत आने वाली सभी उड़ानों पर प्रतिबंध लगाने के बाद दिल्ली एयरपोर्ट पर अबतक 984 यात्रियों की जांच की जा चुकी है और इनमें से कुल 11 यात्री कोरोना संक्रमित पाए गए हैं. इसमें मंगलवार की रात दो उड़ानों के जरिए दिल्ली के आइजीआइ एयरपोर्ट पर पहुंचे 514 यात्री भी शामिल हैं, जिनकी कोरोना जांच की गई है. इनमें छह यात्रियों की रिपोर्ट पाजिटिव आई है. Also Read - Happy Republic Day 2021: गणतंत्र दिवस परेड पर दिखेगी भारत की आन-बान और शान, राजपथ पर पहली बार होंगे ये काम

केंद्र सरकार ने ब्रिटेन से लौटे पैसेंजर के लिए एसओपी जारी की. बावजूद इसके ब्रिटेन से लौटे पांच पैंसजर चकमा देकर दिल्ली एयरपोर्ट से निकल जाने में कामयाब रहे.

इनमें से तीन लोगों को ट्रेस कर लिया गया और उन्हें मंगलवार रात को दिल्ली के लोकनायक हॉस्पिटल में एडमिट करा दिया गया है. इसके अलावा एक संक्रमित लुधियाना और एक संक्रमित आंध्र प्रदेश जाने में कामयाब रहा. दोनों को बुधवार को वापस लाया गया है. पांचों को क्वारनटीन कर दिया है. इसके साथ ही सैंपल को जांच के लिए भेज दिया गया है.

लंदन से अमृतसर लौटे यात्रियों में से जो कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं, उन सभी लोगों का जिनोम टेस्ट किया जाएगा. इस टेस्ट के जरिये यह पता लगाया जाएगा कि कहीं ये लोग कोरोना की नई स्ट्रेन का शिकार तो नहीं हैं..इनके जांच नमूनों को पुणे स्थित नेशनल इंस्टीट्यूट आफ वायरोलाजी भेजा जाएगा.