नई दिल्ली: ट्रैक्टर रैली में हुई हिंसा के बाद दिल्ली पुलिस एक्टिव मोड में आ चुकी है. ऐसे में देर रात गाजीपुर बॉर्डर पर किसान दिल्ली पुलिस की एक्शन के डर से रात भर जगते रहे. यही नहीं गाजीपुर सीमा पर हंगामें जैसी स्थिति भी पैदा हो गई. भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने आरोप लगाया कि देर रात उनके कैंप की बिजली कट कर दी गई.Also Read - दिल्लीवालों के लिए FIR करना हुआ आसान, अब घर बैठे कर सकते हैं चोरी और सेंधमारी की शिकायत, जानें कैसे?

राकेश टिकैत ने आरोप लगाया कि प्रशासन द्वारा माहौल खराब कर दिया गया है. लाइट बंद कर डर का माहौल बनाया जा रहा है. प्रशासन आंदोलन को खत्म करना चाहता है. टिकैत ने खुद पर दर्ज FIR को लेकर कहा कि जब आंदोलन कर रहे हैं तो मामला दर्ज किया जाएगा. Also Read - Republic Day Parade 2022: High Tech सुरक्षा के घेरे में दिल्ली | ज़मीन से आसमान तक रखी जा रही नजर

उन्होंने कहा कि अगर दिल्ली पुलिस सहयोग के लिए बुलाएगी तो हम जरूर जाएंगे. कुछ किसान संगठनों के लोग बिजली कटते ही वापस चले गए. क्योंकि वे आंदोलन वापस लेने वाले थे. लेकिन हमार आंदोलन जारी रहेगा. Also Read - Republic Day parade में शामिल होने वालों के लिए दिल्ली पुलिस ने जारी की गाइडलाइंस, इन नियमों का करना होगा पालन

लाल किले की घटना पर टिकैत ने कहा कि लाल किले पर जो कुछ भी हुआ, जिसमें भी किया उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई हो नी चाहिए. हम लोग उन लोगों के साथ नहीं है, दिल्ली पुलिस द्वारा जो ट्रैक्टर रैली के लिए रूट जारी किया गया था हम उसी रूट पर थे.