नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर ने उनके ऊपर यौन दुराचार के आरोप लगाने वाली पत्रकार प्रिया रमानी के खिलाफ सोमवार को दिल्ली की एक अदालत में आपराधिक मानहानि की निजी शिकायत दायर की. विदेश राज्यमंत्री ने रमानी पर ‘जानबूझकर और दुर्भावनापूर्ण तरीके से’ उनकी मानहानि करने का आरोप लगाया और इसके लिए पत्रकार के खिलाफ मानहानि से जुड़ी आईपीसी की धारा के तहत मुकदमा दर्ज करने की मांग की. दुनिया भर में यौन शोषण के खिलाफ शुरू हुए ‘मीटू’ अभियान ने हाल में भारत में जोर पकड़ा और एक के बाद एक कई क्षेत्रों से जुड़े लोगों के खिलाफ कथित यौन शोषण के मामले सामने आए हैं. Also Read - दिल्ली में तीन महीने बाद बहाल होंगी AIIMS की OPD सेवाएं, पहले इन रोगियों का होगा इलाज

Also Read - दिल्ली से अमृतसर का सफर मात्र 4 घंटे में होगा पूरा, सिखों के इन प्रमुख शहरों से होकर गुजरेगा सड़क मार्ग

#Metoo: अब विदेशी पत्रकार ने लगाए मंत्री एमजे अकबर पर आरोप, अमित शाह बोले- होगी जांच Also Read - जासूसी में दो अफसरों के निष्‍कासन से तिलमिलाए पाक ने भारतीय राजनयिक को तलब किया

जांच के लिए कमिटी बनाने को कहा

अपने समय के मशहूर संपादक व वर्तमान में केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री एम.जे.अकबर पर कई महिला पत्रकारों ने यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए हैं. पत्रकार प्रिया रमानी द्वारा विदेश राज्य मंत्री एम.जे.अकबर पर आरोप लगाने के एक दिन बाद, उनकी पूर्व सहयोगी प्रेरणा सिंह बिंद्रा, एशियन एज की रेजिडेंट एडिटर सुपर्णा शर्मा, लेखक शुमा राह, पत्रकार शुतपा पॉल और अन्य महिलाओं ने यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए हैं.केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने #MeToo मूवमेंट के तहत सामने आ रहे मामलों की जांच के लिए कमिटी बनाने की बात कही है.

#मीटू के लपेटे में आए अभिनेता, निर्देशक और मीडियाकर्मी, सामने आईं महिलाओं के शोषण की कहानियां

विदेशी पत्रकार ने भी लगाए आरोप

केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री और पूर्व संपादक एमजे अकबर के खिलाफ अब एक विदेशी पत्रकार ने आरोप लगाए हैं. पत्रकार का आरोप है कि एक मीडिया संस्थान में वर्ष 2007 में इंटर्न रहते हुए अकबर ने सीमाएं लांघते हुए यौन दुर्व्यवहार किया. महिला पत्रकार का आरोप है, ‘उन्होंने मेरी शारीरिक वर्जनाओं को लांघते हुए मेरा और मेरे माता-पिता का भरोसा तोड़ा. पीड़ित का कहना है कि उनके माता-पिता 90 के दशक में दिल्ली में बतौर विदेशी संवाददाता कार्यरत थे और वह उन्हीं के जरिए अकबर से मिली थीं.