नई दिल्ली: मिस्ट्रेस इंडिया अर्थ मैगजीन के कवर पर सबसे क्रिएटिव महिला के रूप में जगह बनाने वाली शैलजा द्विवेदी ने कभी सोचा भी नहीं होगा कि सोशल मीडिया, अखबारों और मैगजीन के कवर पेज पर पब्लिश होने वाली फोटोज से होते हुए उन तक पहुंच कोई उनकी हत्या कर देगा. तस्वीरें देख प्यार, दोस्ती और फिर शादी के लिए राजी करने के लिए आरोपी मेजर ने बेहद शातिर तरीके से योजनाएं बनाईं, लेकिन सफल नहीं होने पर शैलजा को खत्म करने का फैसला कर लिया. Also Read - सेना में अफसर पति का कर्नल पत्नी से 3500 KM दूर हुआ ट्रांसफर, सुप्रीम कोर्ट पहुंचा केस, फिर...

Also Read - PM मोदी ने देशवासियों से की अपील, सैनिकों के सम्मान में एक दिया जरूर जलाएं

शैलजा तक पहुंचने के लिए पति से की दोस्ती Also Read - पाक आर्मी की फा‍यरिंग में घायल BSF के सब- इंस्‍पेक्‍टर राकेश डोभाल ने दम तोड़ा, एक नागरिक की भी मौत

नए खुलासे के अनुसार, मेजर अमित द्विवेदी की पत्नी शैलजा को पहली बार हत्या के आरोपी मेजर निखिल हांडा ने फेसबुक पर देखा था. मेजर हांडा के ज्यादा दोस्त नहीं थे, लेकिन फेसबुक पर सक्रियता ने मेजर को शैलजा तक पहुंचा दिया. एक कॉमन फ्रेंड की टाइम लाइन पर फोटो देखने भर से ही उसे शैलजा से एकतरफा प्यार हो गया. उसने 2015 में शैलजा से फेसबुक पर दोस्ती की. और फिर शैलजा के घर तक पहुंचने के लिए शैलजा के मेजर पति अमित से दोस्ती की. टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस का दावा है कि शैलजा के पति मेजर अमित के साथ मेजर निखिल साथ में घर आने लगा. तब उसकी पहली बार शैलजा से मुलाकात हुई. इसके बाद वह शैलजा के घर होने वाली पार्टियों में शामिल होने लगा. पुलिस के अनुसार एक बार मेजर अमित द्विवेदी ने अपनी पत्नी शैलजा का वीडियो मेजर हांडा के मोबाइल में देख लिया.

आर्मी मेजर की पत्नी से थे आरोपी मेजर के करीबी संबंध, ऐसे खुला मर्डर का राज

निखिल हांडा और शैलजा. फाइल फोटो

निखिल हांडा और शैलजा. फाइल फोटो

शैलजा को हासिल करने के लिए किए इतने जतन

यह मेजर अमित को अच्छा नहीं लगा और उन्होंने मेजर हांडा को घर पर बुलाना-लाना बंद कर दिया, लेकिन इस बीच मेजर हांडा की शैलजा से बात होने लगी थी. फिर भी मेजर हांडा ने शैलजा तक पहुंचने के लिए कोशिशें शुरू कर दी. मेजर हांडा ने शैलजा को ये दिखाने की कोशिश की कि उसका अपनी पत्नी से झगड़ा होता है और वह उसके साथ की बजाय शैलजा के साथ रहना चाहता है. इसके बाद वह इस कोशिश में था कि किसी तरह से शैलजा का मेजर अमित से तलाक हो जाए, लेकिन शैलजा ने इसके लिए इंकार कर दिया. इसके बाद भी मेजर हांडा ने दो साल तक शैलजा को पति मेजर अमित से अलग करने की कोशिश की. इस चक्कर में आर्मी में मेजर हांडा का करियर ढलान पर आ गया.

मेजर की पत्नी की हत्या का मामला, नितिन हांडा 4 दिन की पुलिस रिमांड पर

फिर भी नहीं मानने पर कर दी शैलजा की हत्या

इतना सब होने के बाद भी जब शैलजा नहीं मानी तो उसने उसे खत्म करने का फैसला कर लिया. वह अचानक शैलजा से मिलने के लिए दिल्ली पहुंच गया. और फिर कार में बहस के बाद शैलजा की चाकू से गला रेत कर हत्या कर दी. हत्या कार एक्सीडेंट लगे इसके लिए उसने सड़क पर शैलजा के ऊपर कार चढ़ाई.

एकतरफा प्यार में मेजर की पत्नी की हत्या: सेना में भरा पड़ा है इस तरह का इतिहास

हत्या के बाद भाई से मिला

मेजर हांडा ने हत्या के बाद अपने भाई रजत को फोन कर तुरंत ही मिलने को कहा. रजत को मेजर हांडा और शैलजा के बारे में सब पता था. मेजर हांडा ने रजत को बताया कि उसने शैलजा को मार दिया है और उसे कुछ रुपयों की जरूरत है, अगले सप्ताह वापस कर देगा, लेकिन इससे पहले ही मेजर को मेरठ में पुलिस ने अरेस्ट कर लिया. पुलिस के अनुसार, हत्यारोपी मेजर हांडा की पत्नी के मुताबिक उसे पति मेजर हांडा पर पर शक हुआ था, लेकिन पति ने बातचीत कर उसकी शंका खत्म कर दी. पति पर भरोसा हो गया. मेजर हांडा की पत्नी ने कहा कि हमारा परिवार खुशहाल था.