नई दिल्ली: फूलन देवी के पति उमेद कश्यप ने शनिवार को राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री एवं गृहमंत्री से मांग की कि फूलनदेवी की हत्या की केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से निष्पक्ष जांच करवाकर सभी षड्यंत्रकारियों को कानून के तहत सजा दिलवाई जाए. उमेद कश्यप ने शनिवार को एक संवाददाता सम्मलेन में कहा कि फूलन देवी की हत्या की सीबीआई जांच की मांग के लिए 8 जनवरी को जनाक्रोश सभा का आयोजन किया गया है.

फूलन देवी के हत्यारे शेर सिंह राणा पर बनेगी फिल्म, ये बॉलीवुड एक्टर निभाएगा किरदार

फूलनदेवी जी के पति उमेद कश्यप ने कहा कि भारत वर्ष में आज भी दो तरह के कानून लागू हैं, काले हिरण को मारने पर सलमान खान एवं अन्य लोगों की सीबीआई जांच होती है वहीं एक सांसद फूलन देवी की सबसे सुरक्षित जगह संसद भवन के निकट 44, अशोका रोड, नई दिल्ली के सामने 25 जुलाई 2001 को गोलियों से छलनी कर दिया जाता है और उसकी सीबीआई जांच नहीं होती.

11 साल की उम्र में रेप, 15 की उम्र में गैंगरेप, जानिए डाकू रानी फूलन देवी के जीवन से जुड़ी अनसुनी बातें

उन्होंने कहा कि सीबीआई जांच की मांग के लिए उन्होंने राजघाट पर आमरण अनशन किया, प्रधानमंत्री, गृह मंत्री को ज्ञापन दिया इसके बावजूद सीबीआई जांच नहीं की गई. उमेद कश्यप ने कहा कि राजनीतिक एवं जातिवादी मानसिकता के तहत सांसद फूलनदेवी की हत्या कराई गई. इसमें षड्यंत्र के तहत एक आदमी को सजा देकर बाकी सबको छोड़ दिया गया. बता दें कि फूलन देवी राजनीति में आने से पहले डकैत थीं. उनका चंबल में इतना खौफ था कि राज्य व केंद्र सरकारें तक चिंतित थीं. उन्होंने 80 के दशक में आत्मसमर्पण कर दिया था. इसके बाद समाजवादी पार्टी ने उन्हें टिकट दिया था, और वह डकैत से सांसद बन गई थीं. 2001 में दिल्ली में उनके आवास पर उनकी गोली मारकर हत्या कर दी गई थी.