नई दिल्ली: राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनावों में नौजवानों को कांग्रेस की तरफ खींचने के मकसद से पार्टी की युवा इकाई इन तीनों राज्यों में करीब 50 लाख बेरोजगार युवाओं से ‘युवा रोजगार फॉर्म’ भरवाएगी और सरकार बनने पर उन्हें रोजगार एवं बेरोजगारी भत्ता देने का वादा करेगी. भारतीय युवा कांग्रेस ने कल छत्तीसगढ़ में इसकी शुरुआत भी कर दी और आने वाले कुछ दिनों में राजस्थान और मध्यप्रदेश में भी यह शुरू करने जा रही है. युवा कांग्रेस ने इन तीनों में राज्यों के कुल 520 विधानसभा क्षेत्रों में से हर क्षेत्र में करीब 10 हजार युवाओं से यह फॉर्म भरवाने की योजना बनाई है.

मप्र विधानसभा चुनाव 2018: दिलचस्प होगी सियासी ‘जंग’, भाजपा-कांग्रेस के साथ ताल ठोक रहे कई और दल

इस फॉर्म के साथ एक विशिष्ट कार्ड भी संलग्न किया गया है जिसे फॉर्म भरकर युवा कांग्रेस को सौंपते समय नौजवान अपने पास रखेंगे और फिर उस पर दिए गए एक फोन नंबर के जरिए अपना पंजीकरण करवाएंगे. संगठन का कहना है कि इन राज्यों में सरकार बनने पर यह फॉर्म भरने वाले सभी युवाओं को रोजगार दिया जाएगा और जब तक रोजगार नहीं मिलता तब तक उनको एक हजार रुपये प्रति माह का बेरोजगारी भत्ता दिया जाएगा. युवा कांग्रेस के उपाध्यक्ष श्रीनिवास बीवी का कहना है कि इसे पार्टी तीनों राज्यों के अपने चुनावी घोषणापत्र में भी जगह देगी.

मध्यप्रदेश-छत्तीसगढ़ में गठबंधन, राजस्थान में अकेले चुनाव लड़ सकती है कांग्रेस

श्रीनिवास ने कहा कि भाजपा सरकारों में रोजगार की हालत बहुत खराब है. नौजवान परेशान है. ऐसे में हम नौजवानों को यह विश्वास दिलाना चाहते हैं कि कांग्रेस की सरकार आने पर सबसे पहले उनको रोजगार दिलाने पर ध्यान दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि इस फॉर्म के जरिए बेरोजगार नौजवानों का आंकड़ा हमारे पास होगा और सरकार बनने पर हमें उनको रोजगार या बेरोजगारी भत्ता दिलाने में सहूलियत होगी। इससे युवाओं को भी सहूलियत होगी. युवा कांग्रेस के उपाध्यक्ष ने कहा कि हम इन तीनों राज्यों के हर विधानसभा क्षेत्र में करीब 10 हजार युवाओं से यह फॉर्म भरवाने जा रहे हैं. हमारा आकलन है कि चुनावों से पहले कुल 50 लाख युवा यह फॉर्म भरेंगे.