Corona Stories: कर्नाटक के कोप्पल जिले की 105 साल की कमलाम्मा लिंगानागौदा हिरेगोद्रा ने आयुर्वेद पद्दति से कोरोनावायरस को हरा दिया है. कोप्पल राज्य के सबसे पिछड़े जिलों में से एक और काफी समय से यह कोरोना का हॉटस्पॉट रहा है. Also Read - Alert: कोविड-19 रोगियों में किडनी खराब होने का जोखिम बढ़ा

कमलाम्मा के पौत्र श्रीनिवास हयाती एक आयुर्वेद डॉक्टर हैं. कमलाम्मा को बुखार था और इसके बाद उनका कोरोना टेस्ट किया गया, जो पॉजिटिव आया लेकिन वह इलाज के लिए अस्पताल नहीं जाना चाहती थीं. Also Read - कोरोना का इतना डर, शिकायत या आवेदन सब पेटी में डालो, कोई नहीं लगाता हाथ...

हयाती ने कहा, “घर पर उनका इलाज करना एक चुनौती थी. हालांकि उन्हें कोई और बीमारी नहीं थी और यही उनके लिए वरदान साबित हुआ. वह वायरस को लेकर चिंतित नहीं थी और होम आइसोलेशन में रहते हुए इलाज के दौरान पूरा सहयोग किया.” Also Read - India Covid-19 Updates: देश में कोरोना से जान गंवाने वालों का आंकड़ा 90 हजार के पार, 83 हजार से ज्यादा नए केस आए सामने

कमलाम्मा के परिजनों का कहना है कि उन्होंने यह कहते हुए कि अब उनका अंत समय नजदीक है, खाना-पीना छोड़ दिया था लेकिन हमने उन्हें खाने पर विवश किया.

पानी के साथ उन्हें औषधि दी गई और इसी से वह कोरोना को हरा सकीं. इलाज के बाद कमलाम्मा का फिर से टेस्ट किया गया और इस बार रिपोर्ट नेगेटिव आया.
(एजेंसी से इनपुट)