IMEI Fraud Case: हर मोबाइल फोन में IMEI नंबर होता है जिससे उस फोन की पहचान होती है. इस नंबर पर अमूमन एक या दो सिम नंबर अटैच किए जा सकते हैं. मगर आपको अब जो खबर बताएंगे वो इससे बिल्कुल अलग है. मेरठ में एक ऐसा मामला सामने आया है जहां एक आईएमईआई नंबर पर 13 हजार मोबाइल फोन चल रहे थे. Also Read - गजब की जोड़ी: एक-दूजे के हुए 3 फुट के दूल्हा-दुल्हन, बॉलीवुड में भी कर चुके हैं काम

जैसे ही मामला सामने आया पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया. दरअसल किसी ने सोचा भी नहीं था कि ऐसा भी हो सकता है.

मामला तब सामने आया जब एक पुलिसकर्मी ने ही अपना मोबाइल फोन साइबर क्राइम सेल में कर्मचारियों को जांच के लिए दिया, क्योंकि मरम्मत के बाद भी उसका फोन ठीक से काम नहीं कर रहा था.

मेरठ के एसपी (शहर) अखिलेश एन. सिंह ने कहा कि साइबर सेल ने पाया कि लगभग 13,500 अन्य मोबाइल भी उसी आईएमईआई पर चल रहे थे.

उन्होंने कहा कि यह सुरक्षा से जुड़े गंभीर मुद्दे का केस है.

सिंह ने कहा, “शुरूआती तौर पर यह मोबाइल फोन कंपनी की ओर से हुई लापरवाही लगती है और अपराधी इसका फायदा उठा सकते हैं.”

उन्होंने कहा कि कानून की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है और इस मामले को देखने के लिए विशेषज्ञों की एक टीम को बुलाया गया है.

बता दें कि आईएमईआई (इंटरनेशनल मोबाइल इक्विपमेंट आइडेंटिटी) डिवाइस को पहचानने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला नंबर होता है.
(एजेंसी से इनपुट)