इंदौर। आयकर भुगतान को प्रोत्साहित करने की अनूठी पहल के तहत यहां 98 साल की करदाता महिला को सम्मानित किया गया. वह सरकारी खजाने में लंबे समय से आयकर जमा कर रही हैं. आयकर दिवस की पूर्व संध्या पर आयोजित कार्यक्रम में कमला भराणी (99) को सुप्रीम कोर्ट के अवकाशप्राप्त न्यायाधीश पीपी नावलेकर ने सम्मानित किया. Also Read - टेलिरिंग और पेटिंग करते हुए बने गुंडों ने बना लिए थे आलीशान मकान, अब प्रशासन ने ढहाए

Also Read - Income Tax Refund: इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने अभी तक 59 लाख से अधिक करदाताओं को जारी किया 1.40 लाख करोड़ का रिफंड

दो दशक से भर रही हैं इनकम टैक्स Also Read - MP High Court की इंदौर बेंच के 52 कर्मचारी Coronavirus से संक्रमित निकले

कमला व्हीलचेयर पर आयकर विभाग के कार्यक्रम में पहुंचीं थीं. उनके पुत्र और शहर के वरिष्ठ हृदय रोग विशेषज्ञ अनिल भराणी ने संवाददाताओं को बताया कि उनकी माता सावधि जमा (एफडी) योजनाओं पर मिलने वाले ब्याज पर करीब दो दशक से नियमित तौर पर आयकर जमा कर रही हैं.

31 जुलाई तक इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल नहीं किया तो भारी जुर्माना, देरी पर ये हैं कड़ी शर्तें

आयकर विभाग ने कमला भराणी के अलावा शहर के आठ अन्य वरिष्ठतम करदाताओं को भी सम्मान के लिये आमंत्रित किया था जिनकी उम्र 96 से 105 साल के बीच है. हालांकि, इनमें से ज्यादातर लोग अपनी अधिक उम्र के चलते कार्यक्रम में नहीं पहुंच सके और उनके स्थान पर उनके परिजनों ने आयकर विभाग का सम्मान ग्रहण किया.

सरकार को देनी चाहिए सुविधाएं

कार्यक्रम को संबोधित करते वक्त न्यायमूर्ति नावलेकर ने सुझाव दिया कि सरकार द्वारा उन लोगों को किसी ना किसी तरीके से प्रोत्साहित किया जाना चाहिए, जो स्वेच्छा से आयकर जमा करते हैं. उन्होंने सुझाया कि ऐसे लोगों को रेल यात्रा या अन्य क्षेत्रों में विशेष रियायत दी जा सकती है. ऐसा करने से समाज के अन्य लोग भी स्वेच्छा से आयकर अदायगी के लिये प्रेरित होंगे.