एक गॉव जहाँ 305 लोगो की आबादी है और वहा करोड़पति 80 लोग है इस गॉव में रहनेवाला हर किसान अपने दम पर यहाँ तरक्की के मुकाम को हासिल कर के आज के दौर में लोगो के लिए एक मिसाल बन गए है।

hirve1201

यह गांव, महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले में पड़ता है। नाम है हिवरे बाजार। इस गांव की किस्मत यहां के लोगों ने खुद लिखी है। क्योंकि, साल 1990 में यहां 90 फीसदी गरीब परिवार रहते थे। पीने के लिए भी पानी नहीं था। लेकिन गॉव के लोगो ने अपनी किस्मत को बदलने की जो ठानी तो सच में नामुमकिन को मुमकिन कर दिखाया।

गॉव में हालात बिगड़ेने लगे कुछ लोग अपने परिवारों के साथ पलायन कर गए। गांव में साल 1990 में एक कमेटी ‘ज्वाइंट फॉरेस्ट मैनेजमेंट कमेटी’ बनाई गई। इसके तहत गांव में कुआं खोदने और पेड़ लगाने का काम श्रमदान के जरिए शुरू किया गया। इस काम में, महाराष्ट्र एम्प्लायमेंट गारंटी स्कीम के तहत योगदान मिला, जिससे काफी मदद मिली और गॉव का दशा बदल गई।

गांव में उन फसलों को बैन कर दिया, जिनमें ज्यादा पानी की जरूरत थी। पोपट राव ने बताया कि आज गांव में 340 कुआं है। ट्यूबवेल खत्म हो गए हैं और जलस्तर 30-35 फीट बढ़ गया । इस गावँ में कमाई का जरिया सिर्फ खेती पर निर्भर है और जिसके बदौलत यहाँ के किसानो ने जमकर अपने व्यापार को बढ़ाया जिसका नतीजा यह है की 305 लोगो की आबादी वाले इस गॉव में 80 लोग करोड़पति और कई लोग है जिनकी साला की कमाई लाखो में है इस गॉव की तरक्की के पीछे गॉव के लोगो की मेहनत है।