मेडिकल के छात्रों का सपना होता है डॉक्टर बनकर किसी अच्छे अस्पताल में काम करना या मेडिकल के क्षेत्र में काम करने का. लेकिन अगर आप डॉक्टर नहीं बन पाते या नहीं बनना चाहते तब भी आपके पास मेडिकल फील्ड में ही कई सारे ऑप्शन उपलब्ध हैं. हम आपको बताते हैं ऐसे ही कुछ ऑप्शन के बारे में- Also Read - यूपी में 23 नवंबर से खुलेंगे सभी विश्वविद्यालय, क्लास में 50% स्टूडेंट्स ही बैठ पाएंगे, जानें बाकी नियम

1. न्यूट्रीशनिस्ट: आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में लोगों के पास समय की कमी है. पूरे दिन ऑफिस में और आने जाने में ही इतना समय निकल जाता है कि इंसान को अपनी सेहत के लिए समय ही नहीं मिल पाता. ऐसे में थोड़े समय में कैसे एक्सरसाइज करें और क्या खाएं और क्या नहीं, ये तय करना मुश्किल हो गया है. लोगों को अपने आप को फिट रखने के लिए किसी के सहारे की जरुरत पड़ने लगी है. लोगों को फिट रखने में उनकी मदद करना ही न्यूट्रीशनिस्ट का काम है. न्यूट्रीशनिस्ट का मुख्य काम अपने क्लाइंट की हेल्थ कंडिशन को देखकर उसके लिए एक सही डाइट चार्ट तय करने का है. न्यूट्रीशनिस्ट अपने क्लाइंट को बताता है कि उसे अपने आप को फिट रखने के लिए क्या खाना चाहिए और क्या नहीं. इससे व्यक्ति कम समय में अच्छे से अपने आप को फिट रख सकता है. न्यूट्रीशनिस्ट के तौर पर आप होटल, अस्पताल, स्कूल या फिर निजी तौर पर काम कर सकते हैं. न्यूट्रीशनिस्ट बनने के लिए बीएससी न्यूट्रीशन, होम साइंस की डिग्री या फिर फूड टेक्नॉलजी में बीटेक की डिग्री जरूरी है. Also Read - Schools & Reopening: इस राज्‍य में SOP के साथ जल्‍द खुलेंगे स्‍कूल-कॉलेज, चल रही तैयारी

2. फूड टेक्नॉलजी: इस क्षेत्र में इंजीनियरिंग, बायोलॉजी और फिजिकल साइंस से जुड़े लोग फूड के नेचर के बारे में स्टडी करते हैं. खाना क्यों खराब होता है, खाने को कैसे ज्यादा देर तक ठीक रखा जा सकता है. फूड साइंस में करियर के लिए 12वीं के बाद किसी भी सब्जेक्ट में ग्रेजुएशन करने के बाद शुरूआत कर सकते हैं बशर्ते 12वीं में आपके पास फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथ्य (पीसीएम) रहा हो. Also Read - Radio Pathshala: इस राज्य में पढ़ाई को लेकर शुरू हो रही ये पहल, कल से हर रोज रेडियो पाठशाला प्रोग्राम होगा आयोजित

3. फार्मेसी: भारत में फार्मेसी इंडस्ट्री बहुत पुरानी है, ऐसे कैंडिडेट जिन्होंने 12वीं पीसीएम के साथ पास की है वो 4 साल के बैचलर ऑफ फार्मेसी कोर्स के लिए एडमिशन ले सकते हैं. BITS पिलानी से यह कोर्स किया जा सकता है.

4. नर्सिंग: नर्सिंग किसी भी अस्पताल का जरूरी हिस्सा है, नर्सिंग की जरूरत अस्पताल में हमेशा रहती है चाहे जनरल वॉर्ड हो या ऑपरेशन थियेटर. नर्सिंग में मरीजों की सेवा करने से लेकर मानसिक तनाव को कम करने का काम किया जाता है. नर्सिंग के क्षेत्र में जाने के लिए नर्सिंग का कोर्स किया जा सकता है.

5. एग्रीकल्चर: भारत एक कृषि प्रधान देश है और हमारे देश में आज भी एक बड़ा समूह कृषि करता है और इसी से अपना जीवन यापन करता है. इसी लिए कृषि के क्षेत्र में भी एक्सपर्ट की जरूरत है ताकि कृषि को तकनीक के साथ जोड़कर ज्यादा पैदावार की जा सके. इसके लिए कृषि के क्षेत्र में बीएससी की जा सकती है. इसके अलावा कृषि के क्षेत्र में ही बी.टेक भी किया जा सकता है.