यिंगकियोंग (अरुणाचल प्रदेश). मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने बुधवार को भारत के सबसे लंबे 300 मीटर सिंगल-लेन स्टील केबल सस्पेंशन पुल का उद्घाटन किया, जो चीन की सीमा से लगते अरुणाचल प्रदेश के अपर सियांग जिले में सियांग नदी के ऊपर बनाया गया है. इस पुल के खुलने से यिंगकियोंग से तुतिंग शहर की दूरी करीब 40 किलोमीटर घट जाएगी. पहले बनाए गए सड़क की लंबाई 192 किलोमीटर थी. सस्पेंशन पुल को ब्योरुंग ब्रिज के नाम से भी जाना जाता है, जिसे 4,843 करोड़ रुपए की लागत से बनाया गया है. इसका वित्त पोषण संसाधनों के नॉन लैप्सेबल सेंट्रल पूल के तहत उत्तर पूर्वी क्षेत्र विकास मंत्रालय के द्वारा किया गया है.

पुल के उद्घाटन के मौके पर सीएम पेमा खांडू ने कहा कि नवनिर्मित पुल से सियांग नदी के दोनों तरफ रहनेवाले करीब 20,000 लोगों को फायदा होगा तथा देश की रक्षा तैयारियों में भी इजाफा होगा. मुख्यमंत्री ने कहा कि अच्छी कनेक्टिविटी राज्य को समृद्धि की ओर ले जाएगी. खांडू ने यह भी बताया कि केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना (पीएमजीएसवाई) के तहत कुल 268 सड़क परियोजनाओं के लिए 3,800 करोड़ रुपए का आवंटन किया है.

उन्होंने कहा कि अपर सियांग जिले में दो पीएमजीएसवाई परियोजनाओं को मंजूरी दी गई थी. उन्होंने कहा कि इन परियोजनाओं में पालिंग से जिडो तक 35 किलोमीटर लंबी सड़क और जिडो से बिशिंग तक 30 किलोमीटर लंबी सड़क का निर्माण शामिल है. सीएम पेमा खांडू ने पुल के उद्घाटन के बाद इसकी कई तस्वीरें भी अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर की. टि्वटर पर देश के इस सबसे लंबे सिंगल-लेन पुल की तस्वीरें शेयर करते हुए पेमा खांडू ने कहा कि यह पुल सियांग नदी के दोनों तरफ रहने वाले लोगों के लिए लाइफ-लाइन का काम करेगा. क्योंकि इस पुल के जरिए न सिर्फ दो इलाकों की दूरी कम होगी, बल्कि यह राज्य को आंतरिक रूप से मजबूत करेगा.