मुंबई के दादर इलाके से एक दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है. खबर के मुताबिक दादर के शिशुविहार स्कूल में पढ़ने वाले 16 साल रुतिक नाम के एक छात्र पर कथित रूप से परीक्षा का इतना दबाव था कि गुरुवार से शुरू हुई परीक्षा से एक दिन पहले बुधवार की रात को उसे दिल का दौरा पड़ गया जिससे उसकी मौत हो गई. रुतिक को आज से परीक्षा देनी थी.

परेल स्थित केईएम अस्पताल के डीन डॉ अविनाश ने बताया, शुक्रवार रात को रुतिक को अस्पताल लाया गया था लेकिन अस्पताल पहुंचने पर उसकी मौत हो चुकी थी. डॉ अविनाश ने आगे कहा, क्योंकि अस्पताल पहुंचने से पहले ही छात्र की मौत हो चुकी थी इसलिए मैं ये नहीं कह सकता कि उसकी मौत दिल का दौरा पड़ने से हुई होगी, पोस्टमॉर्टम करने के बाद बॉडी को परिवार को सौंप दिया गया है और लोकल पुलिस को जल्द ही इसकी रिपोर्ट सौंप दी जाएगी”.

ये भी पढ़ें- यूपी: बोर्ड परीक्षा में सामूहिक नकल कराने वाले 10 गिरफ्तार

इससे पहले पिछले महीने फरवरी में पीएम नरेंद्र मोदी ने बोर्ड परीक्षा देने वाले 10वीं और 12वीं के छात्रों से बात कर उन्हें परीक्षा के दौरान तनाव मुक्त रहने की सलाह दी थी. केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने 16 फरवरी को दिए गए पीएम मोदी के भाषण को देशभर के छात्रों को टीवी पर दिखाने और रेडियो पर सुनाने के लिए पूरी तैयारी की थी.

ये भी पढ़ें- QS world university rankings 2018: देश के मशहूर IIT, यूनिवर्सिटीज की रैंकिंग में गिरावट, ये हैं टॉप पर…

प्रधानमंत्री मोदी ने हाल ही में परीक्षाओं की कठिनाइयों और तैयारी के मद्देनजर स्‍टूडेंट् के लिए एक किताब ‘एग्‍जाम वारियर्स’ लिखी है. पीएम ने अपनी इस किताब में छात्रों के लिए 25 मंत्र बताए है. 200 पेज की इस किताब की बुकस्‍टोर्स में खूब बिक्री हुई. ‘एग्‍जाम वारियर्स’ उपाख्‍यानों के रूप में है, जिसमें पीएम के स्‍कूल के दिनों और उनके रेडियो प्रोग्राम ‘मन की बात’ से लिए गए हैं. इसमें तनाव से निपटने के तरीके बताए गए हैं.

पीएम ने अपनी इस किताब में कहा है ‘किसी तरह बनना एक परंपरागत रास्‍ता है… ऐसा रास्‍ता चुने जिस पर कम लोग गुजरे हैं’.