वॉशिंगटन: अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा (NASA) का कहना है कि गुरुवार के दिन धरती के पास से एक स्कूल बस के आकार का उल्कापिंड (Bus-size asteroid) गुजरेगा. इस उल्कापिंड का नाम नासा ने 2020 SW रखा है. बता दें कि 24 सितंबर के दिन यह उल्कापिंड पृथ्वी से 13,000 मील की ऊंचाई से होकर गुजरेगा. नासा की मानें तो इस उल्कापिंड (asteroid) की पृथ्वी के सतह से नजदीकी अन्य उपग्रहों (Satellite) से कम होगी. Also Read - Kalpana Chawla: कल्पना चावला के नाम पर रखा गया अमेरिकी अंतरिक्षयान का नाम

बता दें कि इस ऑबजेक्ट को सबसे पहले 18 सितंबर को देखा गया था. इसे एक प्रोजेक्ट के दौरान नासा द्वारा एरिजोना के टक्सन में खोज निकाला गया था, जिसके बाद वैज्ञानिक इसपर लगातार नजर बनाए हुए थे. अबतक मिली सभी जानकारियों को मिलाकर यह पता लगाया गया है कि गुरुवार यानी आज यह पृथ्वी के सबसे नजदीक होगा. Also Read - भारतीय वैज्ञानिकों की NASA ने की तारीफ, एस्ट्रोसैट की सहायता से खोज निकाली नई आकाशगंगा

ऐसा अनुमान लगाया गया है कि आज पृथ्वी के पास से गुजरने के बाद यह उल्कापिंड 2041 से पहले धरती के करीब से होकर नहीं गुजरेगा. नासा की मानें तो यह उल्कापिंड 5-10 मीटर चौड़ा है. साथ ही इसका आकार छोटी स्कूल बस जितना है. बता दें कि नासा ने साफ कर दिया है कि इससे पृथ्वी को किसी प्रकार का खतरा नहीं है. क्योंकि अगर ऐसा होता तो पृथ्वी के वायुमंडल में प्रवेश करते ही यह आग के गोले (Shooting Stars) में बदल जाता और कई छोटे छोटे टुकड़ों में विभाजित हो जाता. Also Read - 28 हजार KM की रफ्तार से धरती की ओर आए नासा के अंतरिक्ष यात्री, पहली बार समुद्र में उतरे