नई दिल्ली: नागरिकता कानून और एनआरसी के खिलाफ देश भर में प्रदर्शन हो रहे हैं. दिल्ली का शाहीन बाग़ इसका केंद्र बना है. वहीं, देश के अलग-अलग हिस्सों की तरह चेन्नई में भी प्रदर्शन चल रहे हैं. चेन्नई में प्रदर्शन के दौरान एक अनोखा मामला सामने आया है. एक कपल ने धरना स्थल पर पहुंचकर शादी रचाई. धरना स्थल पर ही काजी ने दोनों का निकाह पढ़ाया. इस दौरान दुल्हन हाथों में संविधान की प्रस्तावना लिए रही. निकाह के बाद दोनों ने नागरिकता कानून (Citizenship Amendment Act) और एनआरसी (National Register of Citizenship) के खिलाफ नारे लगाए. Also Read - निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के आयोजन में शामिल हुए तमिलनाडु के 110 लोग संक्रमित

चेन्नई के वॉशरमैनपेट में नागरिकता क़ानून और एनआरसी के खिलाफ प्रदर्शन चल रहा है. कई दिनों से जारी इस प्रदर्शन स्थल को चेन्नई शाहीन बाग़ (Chennai Shaheen Bagh) का नाम दिया गया है. बताया रहा है कि यहां एक कपल ने धरना स्थल पर ही शादी रचाई. दोनों पूरी तैयारी के साथ धरना स्थल पर पहुंचे. लड़का दूल्हा बनके तो लड़की दुल्हन बनके महिलाओं की भीड़ के बीच बैठी. इस दौरान दुल्हन संविधान की प्रस्तावना हाथ में लिए रही. धरना स्थल पर काजी ने दोनों का निकाह कराया. दोनों ने एक दूसरे को क़ुबूल किया. Also Read - Video:'कोरोना हेलमेट' पहने सड़क पर उतरी पुलिस, ये है लॉकडाउन में लोगों को समझाने का नया तरीका

परिजनों को मंजूर नहीं था लड़की का प्यार, पुलिस ने थाने में कुछ ऐसे करा दी शादी, मिस्ड कॉल ने… Also Read - तमिलनाडु में कोरोना वायरस से 54 वर्षीय शख्स की मौत, राज्य में संक्रमितों की संख्या 18 हुई

धरना स्थल पर मौजूद औरतों ने भी दोनों के लिए दुआएं पढ़ीं. नागरिकता क़ानून और एनआरसी के खिलाफ प्रदर्शन की शपथ ली और दूल्हा दुल्हन ने इसके खिलाफ नारेबाजी भी की. ये शादी चर्चा का विषय बनी हुई है. बता दें कि देश भर में नागरिकता कानून और एनआरसी का विरोध हो रहा है. दिल्ली के शाहीन बाग़ का मामला तो सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है. सुप्रीम कोर्ट ने दो मध्यस्थ भी नियुक्त किये हैं, जो प्रदर्शनकारियों से बातचीत करेंगे.