नई दिल्लीः दुनिया में हर तरफ कोरोना वायरस से कोहराम मचा हुया है. विश्व के 184 से ज्यादा देश कोरोना वायरस की चपेट में हैं. इस वायरस के विकराल रूप को इस बात से ही समझ सकते हैं अभी तक इसने दो लाख से अधिक लोगों की जान ले ली है. दुनिया भर में अनेकों लोग इस संकट के समय में मदद के लिए आगे आ रहे हैं. कोई आर्थिक मदद कर रहा है तो कोई सामाजिक सेवा से मदद कर रहा है. अब इस कड़ी में जलवायु कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग का भी नाम जुड़ गया है. Also Read - यूपी में 8 जून से खोले जाएंगे धार्मिक स्थल, होटल, रेस्तरां और शॉपिंग मॉल; जुलाई में खुलेंगे स्कूल

स्वीडिश जलवायु कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग ने कोरोनावायरस महामारी से बच्चों के बचाव के लिए संयुक्त राष्ट्र बाल कोष को 100,000 डॉलर का दान दिया है. इसमें सबसे खास बात यह है कि ग्रेटा को यह राशि एक कार्यक्रम के दौरान पुरस्कार में मिली. ग्रेटा ने कहा कि इन पैसों का इस समय इससे बेहतर उपयोग और कुछ नहीं हो सकता. Also Read - आर्थिक गतिविधियों को बंद करने से पहले रूपरेखा तैयार करके समीक्षा करनी चाहिए थी : यामाहा

यूनिसेफ ने थनबर्ग से कहा, ‘जलवायु संकट की तरह कोरोनो वायरस भी दुनिया के लिए एक बहुत बड़ा संकट है और इसे इससे बच्चों पर भी बहुत बड़ा संकट आया है. इसे भी हमें एक बाल अधिकार संकट ही समझना चाहिए. यूनीसेफ ने कहा कि यह अभी और लंबे समय में तक बच्चों को प्रभावित करेगा, लेकिन इसका सबसे ज्यादा प्रभाव कमजोर समूहों पर पड़ेगा कमजोर समूहों को सबसे अधिक प्रभावित करेगा।’ वहीं, थनबर्ग ने कहा, ‘मैं सभी लोगों से बच्चों के जीवन को बचाने, स्वास्थ्य की रक्षा करने और शिक्षा जारी रखने के लिए यूनिसेफ के महत्वपूर्ण काम के समर्थन में कदम बढ़ाने और उससे जुड़ने की अपील कर रही हूं.” Also Read - Mann ki Baat Today: कोरोना वायरस से गरीब एवं श्रमिक परिवार सबसे ज्यादा बुरी तरह प्रभावित हुए हैं: पीएम मोदी

थनबर्ग ने कहा कि मैं पूरी दुनिया के लोगों से इस संकट के समय बच्चों के जीवन को बचाने उनके अधिकारों की रक्षा करने और उनके स्वास्थ्य की रक्षा करने और शिक्षा को जारी रखने के लिए यूनिसेफ के समर्थन में उससे जुड़ने की अपील कर रही हूं.”