नई दिल्ली: कोरोना (Corona Virus) जैसी मुश्किल के बीच अगर कोई सबसे अधिक इस बीमारी के खिलाफ जुटा है तो वह हैं स्वास्थ्यकर्मी. मध्य प्रदेश के इंदौर में एक डॉक्टर ने अस्पताल में खड़ी कार को ही अपना घर बना लिया, वह कई दिनों से घर नहीं गए. अब जो मामला सामने आया है वह बेहद भावुक कर देने वाला है. कर्नाटक के एक अस्पताल में मरीजों की देखभाल में जुटी एक नर्स 15 दिन से घर नहीं जा पाई. नर्स मां से मिलने को बेताब बच्ची को दूर से ही मिलवाया जाता है. करीब 50 फीट दूर से खड़ी होकर हाथ हिलाते हुए नर्स मां से मिलने के लिए रोने लगती है. ये वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. Also Read - ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्विटर बायो से 'बीजेपी' हटाने की खबरों को बताया निराधार, ट्वीट कर कही ये बात

नर्स के समर्पण की हो रही तारीफ़
ये वीडियो कर्नाटक का है. यहाँ के बेलागवी इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज में कोरोना वायरस वार्ड बना है. सुगंधा नाम की नर्स पिछले 15 दिन से बिना घर जाए, इस वार्ड में काम कर रही हैं. सुगंधा की तीन साल की बच्ची है. नर्स सुगंधा से मिलने की जिद के बाद बच्ची को मिलवाने ले जाया गया, लेकिन करीब 50 फीट दूर से सिर्फ दिखाया गया. Also Read - एक्ट्रेस नुसरत भरूचा अब तक नहीं सिख पाई ये काम, आप भी देखकर कहेंगे 'धत तेरी की'

हॉस्पिटल के गेट पर खड़ी मां को बच्ची ने देखा. हाथ हिलाया और फिर मिलने के लिए रोने लगी. इस पर नर्स भी रोने लगती हैं. अपने आंसू पोछती हैं. और फिर नर्स दूर से ही बेटी को इशारा कर घर जाने को कहती हैं. ये भावुक कर देने वाला वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. लोग नर्स के समर्पण की तारीफ़ कर रही है. ये वीडियो मुख्तार ईमानदार ने अपने पेज पर शेयर किया है. कर्नाटक की कई राजनीतिक हस्तियों ने नर्स ने समर्पण की तारीफ़ की है. Also Read - लॉकडाउन के चलते इस राज्य के मंदिरों को हुआ 600 करोड़ का नुकसान, सालाना आय में आई बड़ी कमी